Wednesday, Oct 27, 2021
-->
lawyers-of-karkardooma-and-tis-hazari-demonstrated-in-support-of-farmers

कडक़डड़ूमा व तीस हजारी के वकीलों ने किसानों के समर्थन में किया प्रदर्शन

  • Updated on 9/27/2021

कडक़डड़ूमा व तीस हजारी के वकीलों ने किसानों के समर्थन में किया प्रदर्शन
नई दिल्ली, टीम डिजिटल।
केंद्र सरकार के द्वारा पारित तीनों कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के भारत बंद के समर्थन में दिल्ली में वकील भी सडक़ों पर उतरे दिल्ली की कडक़डड़ूमा और तीस हजारी जिला अदालतों में सोमवार को वकीलों ने किसानों के समर्थन में नारेबाजी की और केंद्र सरकार से तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की।
दिल्ली के कडक़डड़ूमा कोर्ट में ऑल इंडिया लॉयर्स यूनियन, प्रगतिशील महिला संगठन और ऑल इंडिया एससी एंड एसटी एडवोकेट्स वेलफेयर आर्गनाईजेशन ने कोर्ट परिसर के बाहर कडक़डड़ूमा मेट्रो स्टेशन के पास प्रदर्शन किया। ऑल इंडिया लॉयर्स यूनियन दिल्ली स्टेट सचिव सुनील कुमार ने कहा कि किसानों के इस आंदोलन में वकील भी उनके साथ हैं। 
तीस हजारी कोर्ट में ऑल इंडिया लॉयर्स यूनियन, लॉयर्स फॉर डेमोक्रेसी प्रगतिशील महिला संगठन, से जुड़े वकीलों ने गेट नंबर एक के पास किसानों की मांगों का समर्थन किया। 
वकीलों का कहना था कि किसानों के आंदोलन को समर्थन जब तक जारी रहेगा तीनों कृषि कानून वापस नहीं होंगे तब तक आंदोलन भी जारी रहेगा। यूनियन के नेताओं ने कहा हम सब किसान परिवारों से हैं। किसानों की मांगें पूरी होने तक उनके साथ हैं। 
प्रगतिशील महिला संगठन की सदस्य वकील शोभा ने कहा कि कृषि कानून कारपोरेट की मदद करने वाले हैं। किसानों और आम लोगों के हित में नहीं हैं। ऑल इंडिया एससी एंड एसटी एडवोकेट्स वेलफेयर आर्गनाईजेशन के अध्यक्ष और वकील जेवी सिंह ने कहा कि ये कानून किसान विरोधी हैं। पिछले 10 महीनों से किसान धरने पर बैठे हैं और सैंकड़ो किसानों की मौत हो गई है। 
बता दें की किसान आंदोलनकारी कृषि कानूनों के विरोध में राजधानी के तीन बार्डर पर पिछले दस माह से लगातार धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। इसी कड़ी में किसानों ने 27 सितम्बर सोमवार को  भारत बंद का आवाहन किया था।  
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.