Friday, Feb 03, 2023
-->
Learn how effective Corona vaccine is in the new strain of Corona the government said this prshnt

जानें कोरोना का नए स्ट्रेन में कितनी कामगर है कोरोना वैक्सीन, सरकार ने कही ये बात

  • Updated on 12/23/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दुनिया भर में कोरोना वायरस (Coronavirus) का प्रकोप तेजी से जारी है इसी बीच कोविड-19 के लिए वैकिसीन का इस्तेमाल भी किया जा रहा है। वहीं बीच ब्रिटेन में कोरोना के नए स्ट्रेन (New Strain of Coronavirus)  का पता चला है, जिसके बाद पूरी दुनिया में हड़कंप मच गया है। ऐसे में सबके मन में कई सावल है, जिसमें एक है कि क्या कोरोना वैक्सीन इस नए स्ट्रेन के खिलाफ काम करेंगी? 

ऐसे में भारत सरकार ने कहा कि ब्रिटेन में नए स्वरूप के कोरोना वायरस को लेकर चिंता करने या घबराने की कोई बात नहीं है। भारत में अभी इस तरह का कोई वायरस नहीं मिला है और इसके स्वरूप में भी कोई महत्वपूर्ण बदलाव नहीं हुआ है। नीति आयोग के सदस्य डॉ. वी के पॉल ने कहा कि ब्रिटेन में मिले कोरोना वायरस के नए स्वरूप से टीकों के विकास पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

Bengal में 'योगी मॉडल' के जरिए ममता बनर्जी को झटका देगी BJP ? ऐसे बनाई रणनीति...

बदलाव से ज्यादा संक्रामक हो सकता है वायरस
पॉल ने कहा, अब तक उपलब्ध आंकड़ों के आधार पर कहा जा सकता है कि घबराने की कोई बात नहीं लेकिन और सतर्क रहना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि वायरस के स्वरूप में बदलाव के मद्देनजर उपचार को लेकर दिशा-निर्देश में कोई बदलाव नहीं किया गया है और खास कर देश में तैयार किए जा रहे वैक्सीन पर इससे कोई असर नहीं पड़ेगा।

पॉल ने नए स्वरूप के बारे बताते हुए कहा कि, बदलाव से वायरस ज्यादा संक्रामक हो सकता है और जल्दी संक्रमण फैला सकता है। उन्होंने कहा, यह भी कहा जा रहा है कि यह वायरस 70 गुना ज्यादा संक्रमण फैलाता है। एक तरीके से कह सकते हैं कि यह सुपर स्प्रेडर है लेकिन इससे मृत्यु, अस्पताल में भर्ती होने या गंभीर रूप से बीमार होने का खतरा नहीं बढ़ता है।

तमिलनाडु सरकार ने जल्लीकट्टू के आयोजन की दी अनुमति, इन शर्तों का करना होगा पालन

दुनियाभर के कई देश सतर्क
बता दें कि ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन मिलने की खबर के बाद से दुनियाभर के कई देश सतर्क हो गए हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, दुनियाभर के छह देशों में कोरोना का नया स्ट्रेन मिला है। 

ये समय ऐसा है जब दुनियाभर के कुछ देशों में टीकाकरण भी शुरू हो गया है तब ब्रिटेन सहित छह देशों में कोरोना के नए रूप ने दुनिया की चिंता बढ़ा दी है। यह स्ट्रेन ब्रिटेन के बाद नीदरलैंड्स, डेनमार्क, ऑस्ट्रेलिया, इटली और दक्षिण अफ्रीका में भी पाया गया है।

क्या बच्चों को भी लगाई जाएगी कोरोना की वैक्सीन? जानिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट

70 प्रतिशत अधिक तेज 
मिल रही जानकारी के अनुसार, कोरोना वायरस का यह नया स्ट्रेन पहले के कोरोना वायरस के मुकाबले 70 प्रतिशत अधिक तेजी से फैलता है। ब्रिटेन में संक्रमण के तेजी से फैलने के कारण सरकार ने''नियत्रंण से बाहर'' होने की चेतावनी जारी कर दी है और यूरोपीय यूनियन के कई देशों ने ब्रिटेन से आने वाली उडानों पर रोक लगा दी है। इसके अलावा, ब्रिटेन ने रविवार से सख्त लॉकडाउन लागू कर दिया है।

लॉकडाउन के बाद लोग अब घरों के अंदर ही रहने को मजबूर हो गए हैं। गैर-जरूरी वस्तुओं की दुकानें और प्रतिष्ठान भी बंद दिए गए हैं। बेल्जियम के प्रधानमंत्री अलेक्सेंडर डी क्रू ने कहा कि वह 24 घंटे का उड़ान प्रतिबंध आदेश जारी कर रहे हैं ,जो मध्यरात्रि से प्रभावी होगा।

फैल रहा है तेजी से संक्रमण 
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कोरोना वायरस के नए स्वरूप के तेजी से फैलने के बाद क्रिसमस से पहले दक्षिणी इंग्लैंड में बाजारों को बंद करने और लोगों के जमावड़े पर रोक लगाने की घोषणा की है।

जॉनसन ने श्रेणी-4 के सख्त प्रतिबंधों को तत्काल प्रभाव से लागू करते हुए कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि कोरोना वायरस का एक नया स्ट्रेन सामने आया है, जो पूर्व के वायरस के मुकाबले 70 प्रतिशत अधिक तेजी से फैलता है और लंदन एवं दक्षिण इंग्लैंड में तेजी से संक्रमण फैला सकता है। हालांकि, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ने कहा कि अभी तक ऐसा कोई सबूत नहीं मिला है जो साबित करे कि वायरस का नया प्रकार अधिक घातक है और इस पर टीका कम प्रभावी होगा।

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.