Sunday, Feb 23, 2020
learn why nirmala sitharaman spoke about adnan sami and taslima nasreen

जानें निर्मला सीतारमण ने CAA पर बोलते हुए अदनान सामी और तस्लीमा नसरीन का क्यों किया जिक्र

  • Updated on 1/19/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नागरिकता कानून (Citizenship Amendment Act) पर सत्ता पक्ष और विपक्ष के अपने-अपने दावे है। जिसका सीधा असर यह हुआ देश भर में हजारों लोगों के विरोध और समर्थन में सड़कों पर उतरने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। वहीं केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitaraman) ने कहा है कि जब CAA से देश के किसी नागरिक के नागरिकता को खतरा ही नहीं है तो विरोध क्यों किया जा रहा है। बल्कि मोदी सरकार ने तो धार्मिक पीड़ित लोगों को नागरिकता कानून का फायदा पहुंचाया है। 

केरल के राज्यपाल बोले- CAA पूरी तरह से केंद्रीय सूची का विषय, सभी राज्यों को इसे लागू करना ही पड़ेगा

मोदी सरकार ने अदनान सामी को दिया भारत की नागरिकता
वित्त मंत्री ने अदनान सामी का जिक्र करते हुए कहा कि मोदी सरकार ने उन्हें नागरिकता देने में संकोच नहीं किया तो वहीं तस्लीमा नसरीन भी फिलहाल भारत में ही रह रही है। वे आज नागरिकता कानून पर पार्टी के जन जागरण अभियान को संबोधित कर रही थी। उन्होंने कहा कि जो लोग नागरिकता कानून पर बेजा सवाल उठाते है उन्हें अदनान सामी और तस्लीमा नसरीन के साथ मोदी सरकार के निर्णय को भी याद रखना चाहिये। 

CAA को लेकर केरल की राह पर चल पड़ा है कांग्रेस शासित पंजाब 

सीतारमण ने पेश किये नागरिकता को लेकर आंकड़े
उन्होंने आंकड़े पेश करते हुए कहा कि गत 6 साल में ही 2838 पाक शरणार्थियों, 914 अफगानी, 172 बांग्लादेशी शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता प्रदान की गई है। जिसमें मुस्लिम लोग भी शामिल है। उन्होंने कहा कि यहीं नहीं श्रीलंका से आए तमिल शरणार्थियों को भी भारत सरकार ने नागरिकता दी है। लगभग 4 लाख तमिलों को 1964 से 2008 तक यह भारतीय नागरिकता मिली है।    

CAA के खिलाफ केरल विस में प्रस्तावः मुरलीधरन ने कहा- राज्य सरकार कानून से ऊपर नहीं

अदनान को जनवरी 2016 में मिला भारत का नागरिकता
मालूम हो कि पाकिस्तानी गायक अदनान सामी 2001 से भारत में रह रहे थे। उनका पासपोर्ट 2015 को समाप्त होने के बाद उन्होंने भारत सरकार से नागरिकता के लिये अनुरोध किया था। जिस पर 1 जनवरी 2016 से उन्हें भारत की नागरिकता मिल गई। जबकि बांग्लादेशी लेखक तस्लीमा नसरीन अपने लज्जा उपन्यास से चर्चा में रही है। उन्होंने अपने उपन्यास में बांग्लादेश में हिंदु परिवार के साथ अन्याय को केंद्र में रखकर लिखा था। जब उनपर हमला हुआ तो तस्लीमा ने बांग्लादेश छोड़कर स्वीडन की नागरिकता ले ली। फिलहाल वे भारत में रह रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.