Monday, Sep 27, 2021
-->
left leader sitaram yechury cpim looked disappointed with pm narendra modi address rkdsnt

पीएम मोदी के संबोधन से बेहद निराश दिखे वामदल नेता सीताराम येचुरी, 3 मुद्दे गिनाए

  • Updated on 5/12/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कोरोना संकट के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज का ऐलान कर दिया है। पीएम ने कहा है कि यह जीडीपी के 10 फीसदी के बराबर है। लेकिन इसका खुलासा पीएम ने नहीं किया है कि इसका फायदा किस तरह से किस को होने जा रहा है। इसका ऐलान आने वाले कुछ दिनों में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को करना होगा। इसको लेकर अब सियासी प्रतिक्रियाएं देखने को मिल रही हैं। 

PM मोदी के ऐलान पर अनुराग कश्यप ने उठाए सवाल, अनुपम-परेश रावल ने जताया भरोसा

पीएम मोदी के आर्थिक पैकेज ऐलान के बाद विपक्ष की निगाहें होंगी निर्मला सीतारमण पर

सीपीआईएम के नेता सीताराम येचुरी को पीएम मोदी के संबोधन से बेहद निराश हाथ लगी है। उन्होंने कहा है कि लोगों को उम्मीद थी कि PM ज्वलंत मुद्दों पर बोलेंगे। लेकिन प्रवासी मज़दूर, राज्यों को साधन, बेरोज़गारी और भूख पर कुछ ठोस समाधान सुनने को नहीं मिले। अपने ट्वीट में वीडियो प्रतिक्रिया में येचुरी ने कहा कि पीएम ने आरबीआई के पहले के ऐलान के साथ 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज का ऐलान किया है, लेकिन इसका विवरण उन्होंने नहीं दिया है। उन्होंने कहा जब तक यह विवरण नहीं आता, उस पर टिप्पणी करना मुश्किल है। 

पीएम मोदी के ऐलान पर कांग्रेस बोली- 'हेडलाइन' तो दे दी पर 'मदद की हेल्पलाइन' का है इंतजार

येचुरी ने कहा कि पीएम ने लॉकडाउन 4.0 का भी ऐलान किया, लेकिन इस बारे में भी कोई जानकारी नहीं दी। आत्मनिर्भरता का पीएम ने जिक्र किया, जो भारत के संविधान के चार स्तंभों में से एक है। आजादी के बाद से भारत ने इसमें काफी उपलब्धि हासिल की है, लेकिन मौजूदा संकट में पीएम यह नहीं बताते हैं कि अब देश को कैसे आत्मनिर्भर बनाया जा सकता है। 

गुजरात हाई कोर्ट ने भाजपा मंत्री की चुनावी जीत का बताया अवैध, कांग्रेस बोली- सत्यमेव जयते

संबित पात्रा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, पुलिस ने पूछताछ के लिए जारी किया नोटिस

पीएम मोदी ने तीन अहम मुद्दों पर बात नहीं की। पहला करोड़ों की तादाद में मजदूर गरीब घर जाने के लिए सड़कों पर हैं। कई लोगों की जान चली गई। आज वे भूखे पैदल मार्च कर रहे हैं, अपने घर जाने के लिए। उनके लिए कुछ राहत की अपेक्षा हम कर रहे थे, उस बारे में पीएम ने कुछ नहीं बोला। कैसे उन्हें घर पहुंचाया जाए, इस बारे में कुछ नहीं कहा उन्होंने। अफसोस की बात यह भी की लाखों की तादाद में लोग भूखे हैं। उनके बारे में भी कुछ जिक्र नहीं किया पीएम ने। 

कोरोना संकट : पीएम नरेंद्र मोदी के राष्ट्र संबोधन की ये हैं 4 बड़ी घोषणाएं

comments

.
.
.
.
.