Wednesday, Jul 15, 2020

Live Updates: Unlock 2- Day 15

Last Updated: Wed Jul 15 2020 03:31 PM

corona virus

Total Cases

939,192

Recovered

593,198

Deaths

24,327

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA267,665
  • TAMIL NADU147,324
  • NEW DELHI115,346
  • GUJARAT43,723
  • UTTAR PRADESH39,724
  • KARNATAKA36,216
  • TELANGANA33,402
  • WEST BENGAL28,453
  • ANDHRA PRADESH27,235
  • RAJASTHAN25,806
  • HARYANA21,482
  • BIHAR20,173
  • MADHYA PRADESH17,201
  • ASSAM16,072
  • ODISHA13,737
  • JAMMU & KASHMIR10,156
  • PUNJAB7,587
  • KERALA7,439
  • CHHATTISGARH3,897
  • JHARKHAND3,774
  • UTTARAKHAND3,417
  • GOA2,368
  • TRIPURA1,962
  • MANIPUR1,593
  • PUDUCHERRY1,418
  • HIMACHAL PRADESH1,182
  • LADAKH1,077
  • NAGALAND771
  • CHANDIGARH549
  • DADRA AND NAGAR HAVELI482
  • ARUNACHAL PRADESH341
  • MEGHALAYA262
  • MIZORAM228
  • DAMAN AND DIU207
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS163
  • SIKKIM160
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
lieutenant general manoj mukund naravane know all about the next indian army chief

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज मुकुंद नरवाने बने 28वें सेनाध्यक्ष, जानें इनसे जुड़ी खास बातें

  • Updated on 12/31/2019

नई दिल्ली/ सोहित शर्मा। आर्मी चीफ जनरल विपिन रावत (General Bipin Rawat) का कार्यकाल 31 दिसंबर यानि आज समाप्त हो गया है। उनकी जगह लेफ्टिनेंट जनरल मनोज मुकुंद नरवाने (Manoj Mukund Naravane) नें ले ली है। अब नरावने अगले सेनाध्यक्ष बन गए हैं। नरावने का सेना प्रमुख के पद पर कार्यकाल दो साल चार महीने का होगा। उन्होंने मौजूदा वर्ष में ही लेफ्टिनेंट जनरल का पदभार संभाला था। 

मनोज मुकुंद नरवाणे होंगे अगले सेना प्रमुख

आतंकवाद रोधी इलाकों में काम करने का है खास अनुभव
नरावने अब तक अपने जीवन के 37 वर्ष भारतीय सेना की सेवा में गुजार चुके हैं। उन्हें आतंकवाद रोधी इलाकों में काम करने का खास अनुभव है। उन्होंने इस दौरान अपनी जिम्मेदारी पूरे अनुशासित तरीके से संभाली। वे जम्मू- कश्मीर में राष्ट्रीय राइफल्स बटालियन के अतिरिक्त पूर्वी मोर्चे पर सेना ब्रिगेड का पदभार संभाल चुके हैं। इसके अलावा वे श्रीलंका में भारतीय शांति रक्षा सेना का हिस्सा भी रह चुके हैं।

ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का हुआ सफल परीक्षण, सतह पर मार करने में है सक्षम

बटालियन की कमान प्रभावी तरीके से संभालने को लेकर मिल चुके हैं कई पदक
उन्हें जम्मू कश्मीर (Jammu kashmir) में अपनी बटालियन की कमान प्रभावी तरीके से संभालने को लेकर सेना पदक मिल चुका है। उन्हें नगालैंड में असम राइफल्स (उत्तरी) के महानिरीक्षक के तौर पर उल्लेखनीय सेवा को लेकर ‘विशिष्ट सेवा पदक’ तथा प्रतिष्ठित स्ट्राइक कोर की कमान संभालने को लेकर ‘अतिविशिष्ट सेवा पदक’ से भी नवाजा जा चुका है। उन्हें ‘परम विशिष्ट सेवा पदक’ से भी सम्मानित किया गया है।

1980 में सातवीं बटालियन, सिख लाइट इन्फैंट्री रेजीमेंट में कमीशन न्यूक्त किए गये
नरवाने लेफ्टिनेंट जनरल का पदभार संभालने से पहले सेना की पूर्वी कमान का पदभार पर संभाल चुके हैं, जो चीन से सटी भारत की लगभग चार हजार किमी लंबी सीमा की रखवाली करती है। उन्हें जून 1980 में सातवीं बटालियन, सिख लाइट इन्फैंट्री रेजीमेंट में कमीशन न्यूक्त किया गया था।

मनोज मुकुंद नरवाने को चीनी मामलों का विशेषज्ञ माना जाता है
मनोज मुकुंद नरवाने को चीनी मामलों का विशेषज्ञ माना जाता है। उनको भारत के नॉर्थ-ईस्ट और जम्मू-कश्मीर में किए गए काउंटर इनसर्जेंसी अभियानों का एक लंबा अनुभव रहा है। मुकुंद नरावने के व्यक्तिगत जीवन की बात की जाए तो उनका विवाह वीणा नरवाने से हुआ। उनकी दो बेटियां भी हैं।  

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.