Thursday, Mar 21, 2019

हिमालयी क्षेत्रों में बर्फबारी और सर्द हवाओं से जीवन अस्त व्यस्त

  • Updated on 3/13/2019

रुद्रप्रयाग/ऊखीमठ/ब्यूरो। केदार घाटी के साथ ही जनपद के तमाम हिमालयी क्षेत्रों में बर्फबारी और निचले क्षेत्रों में सर्द हवाओं के चलने से आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। वहीं केदारनाथ, तुंगनाथ, मदमहेश्वर सहित अन्य कई ऊंचाई वाले इलाकों में बुधवार को रुक-रुक बर्फबारी हुई। इससे केदारनाथ इलाके में 10 से फीट से भी अधिक हिमखण्ड जम चुके हैं। 

आशंका यह है कि यदि इसी तरह लगातार बर्फबारी होती रही, तो भविष्य में केदारनाथ यात्रा पर इसका खासा असर देखने को मिलेगा। इसके इतर विगत कई महीनों से मौसम में हो रहे लगातार बदलाव से क्षेत्र में पर्यटन पर निर्भर व्यापारियों का व्यवसाय लगभग ठप चल रहा है। सामान्य मौसम के विपरीत हो रही बारिश से फसलों को भी नुकसान हो रहा है। 

लक्सर में हुआ रेल हादसा, मालगाड़ी पटरी से उतरी, यातायात बाधित

आने वाले दिनों में यदि ऐसा ही मौसम रहा, तो मई माह के प्रथम सप्ताह से शुरू होने वाली चारधाम यात्रा भी प्रभावित हो सकती है। विगत 22 जनवरी को इस वर्ष मौसम की पहली बर्फबारी हुई थी। इसके बाद  मौसम में आए अनियमित बदलाव से आम जनमानस की दुश्वारियां बढ़ती जा रही हैं।

करीब दो दशक के बाद तुंगनाथ घाटी में हुई रिकार्ड तोड़ बर्फबारी से पर्यटन व्यवसाय लगभग ठप हो चुका है। हिमालयी क्षेत्रों में निरंतर रुक-रुक कर बर्फबारी होने से तोषी, त्रियुगीनारायण, चौमासी, गौण्डार, राँसी व गडगू गांव में चारे की अपर्याप्तता और पशु व्यापार न होने, अप्रैल में बुग्यालों की तरफ रुख करने की तैयारियां करने में पशु पालकों की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.