Tuesday, Dec 06, 2022
-->
lingampalli to hatia special train lockdown telangana govt hyderabad jharkhand pragnt

लॉकडाउन में फंसे प्रवासियों को लेकर विशेष ट्रेन तेलंगाना से झारखंड के लिए रवाना

  • Updated on 5/1/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए भारत में 3 मई तक लॉकडाउन (Lockdown) घोषित है। ऐसे में प्रवासी मजदूर, छात्र समेत कई लोग दूसरे राज्यों में फंस गए हैं। इस बीच तेलंगाना सरकार (Telangana Government) के अनुरोध पर और केंद्रीय रेल मंत्रालय के निर्देशानुसार लिंगमपल्ली (हैदराबाद) से हटिया (झारखंड) तक आज एक विशेष ट्रेन चलाई गई।

Lockdown 2.0: अमृतसर में जरूरी सामान खरीदने निकले लोग, सोशल डिस्टेंसिंग को नहीं कर रहे फॉलो

प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए राज्य सरकार के अनुरोध पर तेलंगाना से झारखंड के बीच स्पेशल ट्रेन चलाई गई।

रूसी प्रधानमंत्री कोरोना वायरस से संक्रमित, PM मोदी ने की शीघ्र स्वस्थ होने की कामना

प्रवासियों के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन
रेलवे ने लॉकडाउन शुरू होने के बाद से पहली बार तेलंगाना (Telangana) के लिंगमपल्ली में फंसे 1,200 प्रवासियों को झारखंड (Jharkhand) के हटिया तक ले जाने के लिए शुकव्रार को विशेष ट्रेन चलाई। आरपीएफ के डीजी अरुण कुमार ने बताया, '24 बोगियों वाली यह ट्रेन शुक्रवार सुबह चार बजकर 50 मिनट पर रवाना हुई।' उन्होंने बताया कि यह प्रवासियों के लिए अब तक चलने वाली पहली ट्रेन है। संयोग से शुक्रवार को अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस भी है।

आजादपुर मंडी में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए दिल्ली सरकार ने उठाया ये कदम

प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए शुरू की गई 
जानकारी के मुताबिक, इस विशेष ट्रेन के जरिए प्रवासी मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाया जाएगा। बता दें कि रेल मंत्रालय के निर्देशानुसार और राज्यों के अनुरोध पर ही किसी अन्य ट्रेन की योजना बनाई जाएगी।

लेबर डे पर केजरीवाल ने प्रवासी मजदूरों को किया सलाम, लोगों से की ये अपील

कई राज्यों ने भी केंद्र से की मांग
गौरतलब है कि पंजाब, बिहार, गुजरात, तेलांगना और कुछ अन्य राज्यों ने श्रमिकों को वापिस बुलाने के लिए केंद्र से विशेष ट्रेन सेवा शुरु करने की भी मांग की है। यद्यपि केंद्र सरकार ने राज्यों के बीच तालमेल से बसों के जरिए प्रवासी मजदूरों व छात्रों को वापिस भेजने की अनुमति दे दी है लेकिन कई राज्य बसों का इंतजाम करने की अभी तक पहल भी नहीं शुरु की है। गुजरात, कर्नाटक, महाराष्ट्र आदि राज्यों में प्रवासी श्रमिक लगातार प्रदर्शन करके स्थानीय प्रशासन पर घरों को वापिस लौटने के लिए दबाव बनाए हुए हैं। उत्तर प्रदेश की पहल के बाद बिहार, पश्चिम बंगाल तथा उत्तराखंड जैसे राज्यों में नागरिकों को वापिस लाने का मुद्दा राजनीतिक रंग भी लेने लगा है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.