Sunday, Jan 26, 2020
live maharashtra sharad pawar ncp congress bjp uddhav thackeray

शिवसेना ने सरकार गठन के लिए मांगा समय, राज्यपाल ने किया इंकार

  • Updated on 11/11/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार गठन के लिए राकांपा (NCP) तथा कांग्रेस द्वारा शिवसेना (Shiv sena) को समर्थन देने पर चल रही बातचीत लगभग फाइनल हो गई है। थोड़ी देर पहले ही शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस नेता सोनिया गांधी से बात की। सूत्रों की माने तो दोनों के बीच सरकार गठन को लेकर संक्षिप्त बातचीत हुई। वहीं महाराष्ट्र (Maharashtra) में शिवसेना ने सरकार गठन के लिए राज्यपाल मांगा है। लेकिन  राज्यपाल ने समय देने से इंकार कर दिया है।

updates

  • आदित्य ठाकरे बोले-हमारा दावा अभी खारिज नहीं हुआ
  • आदित्य ठाकरे-हम स्थिर सरकार चाहते हैं।
  • राज्यपाल ने शिवसेना को 24 घंटे से ज्यादा समय देने से किया इनकार
  • शिवसेना को समर्थन पर शरद पवार से दोबारा बात करेंगी सोनिया गांधी
  • महाराष्ट्रः राज्यपाल से मुलाकात के बाद राजभवन से बाहर निकले शिवसेना नेता
  • कांग्रेस के सभी विधायक शिवसेना सरकार को समर्थन देने को तैयार
  • महाराष्ट्र में सरकार गठन पर सोनिया गांधी ने कांग्रेस विधायकों से की बात
  • मुंबईः शिवसेना सरकार को बाहर से समर्थन करेगी कांग्रेस
  • मुंबईः राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलने के लिए निकले आदित्य ठाकरे

इसके पहले सरकार गठन को लेकर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने कहा कि जो भी फैसला होगा वह दोनों पार्टियां मिलकर लेंगी। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने शिवसेना को सरकार बनाने का दावा करने के लिए आमंत्रित किया है। वहीं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे कुछ समय में एनसीपी चीफ शरद पवार से मिलने जा रहे हैं।   

महाराष्ट्र चुनाव: शिवसेना ने अब मुख्यमंत्री के लिए उद्धव ठाकरे का नाम किया आगे

जो भी फैसला होगा, हम एक साथ मिलकर लेंगे-पवार
पवार ने यह भी कहा कि शिवसेना को दिए गए राज्यपाल के निमंत्रण पर उनकी पार्टी में कोई चर्चा नहीं की गयी है। पवार ने यहां राकांपा की कोर समिति की बैठक से पहले पत्रकारों से कहा, ‘‘हमने (कांग्रेस और राकांपा ने) एक साथ मिलकर चुनाव लड़ा था। जो भी फैसला होगा, हम एक साथ मिलकर लेंगे।’’ राज्य में 105 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी भाजपा ने पर्याप्त संख्या न होने के कारण सरकार बनाने का दावा पेश न करने का रविवार को फैसला लिया।

शिवसेना का बीजेपी पर तीखा प्रहार, कहा- गठबंधन धर्म भूल गई है पार्टी

शिवसेना और भाजपा के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर तनातनी
इसके बाद राज्यपाल ने दूसरी सबसे बड़ी पार्टी शिवसेना को निमंत्रण दिया। शिवसेना और भाजपा के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर तनातनी चल रही है। राज्य में 21 अक्टूबर को हुए विधानसभा चुनाव में शिवसेना ने 56 सीटें, राकांपा ने 54 और कांग्रेस ने 44 सीटें जीतीं। शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस से बातचीत की कोशिशों में लगी है।

मोदी मंत्रिमंडल में शिवसेना के इकलौते मंत्री अरविंद सावंत
वहीं, शरद पवार के नेतृत्व वाली पार्टी ने रविवार को कहा कि शिवसेना को पहले राजग से अलग होना होगा। मोदी मंत्रिमंडल में शिवसेना के इकलौते मंत्री अरविंद सावंत ने सोमवार को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार से अलग होने की घोषणा की। भाषा

 

comments

.
.
.
.
.