विधि विधान से खुले आदिबद्री मंदिर के कपाट

  • Updated on 1/14/2019

कर्णप्रयाग/ब्यूरो। मकर संक्रांति पर सोमवार को ब्रह्म मुहूर्त में साढ़े चार बजे आदिबद्री मंदिर वैदिक मंत्रोच्चारण और विधि विधान के साथ श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया। कपाटोद्घाटन के साथ ही यहां सात दिवसीय महाभिषेक समारोह, शीतकालीन पर्यटन एवं सांस्कृतिक विकास मेला भी शुरू हो गया है। गौरतलब है कि पौष माह में आदिबद्री मंदिर के कपाट बंद रहते हैं, जो मकर संक्रांति के दिन आम लोगों के लिए खोल दिए जाते हैं। 

कपाट खुलने पर मंदिर को गेंदों के फूलों से सजाया गया था। कपाट खुलने के अवसर पर सैकड़ों श्रद्धालुओं ने भगवान नारायण के दर्शन कर पुण्य लाभ अर्जित किया। मंदिर के कपाट खुलते ही भक्तों ने भगवान विष्णु का जयकारा लगाकर वातावरण को भक्तिमय बना दिया।

मंदिर समिति के अध्यक्ष विजयेश नवानी और महासचिव गैणा सिंह ने बताया कि कपाट खुलने पर आयोजित महाभिषेक समारोह में पहली बार मंदिर परिसर में गणेश पुराण का आयोजन किया जा रहा है। व्यास आचार्य प्रशांत डिमरी गणेश पुराण कथा का वाचन करेंगे। इस मौके पर मंदिर समिति के कोषाध्यक्ष नरेश बरमोला, प्रदीप जोशी, मुकेश सिंह कुंवर, विनोद कुमार नेगी आदि मौजूद थे। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.