Tuesday, Jun 28, 2022
-->
loudspeaker controversy: aap accuses bjp of playing with public''''s faith rkdsnt

लाउडस्पीकर विवाद: AAP ने BJP पर जनता की आस्था के साथ खेलने का आरोप लगाया

  • Updated on 5/3/2022

    नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर जनता की आस्था के साथ खेलने का आरोप लगाते हुए आम आदमी पार्टी (आप) ने मंगलवार को कहा कि वह राष्ट्रीय राजधानी में धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर हटाने के किसी भी कदम का विरोध करेगी। आप नेता आतिशी ने कहा कि देशभर में अनेक धार्मिक मौकों पर लाउडस्पीकर बजाये जाते हैं। उन्होंने रामलीला और हनुमान चालीसा तथा सुंदरकांड के पाठ का उदाहरण दिया।   

ईद के मौके पर भगवंत मान बोले- पंजाब में अंकुरित नहीं होते नफरत के बीज

  •  

  आतिशी से जब पूछा गया कि क्या उनकी पार्टी दिल्ली में धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर हटाने के किसी भी कदम का विरोध करेगी तो उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम निश्चित रूप से इसका विरोध करेंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘रामलीला हो या सुंदरकांड का पाठ हो, जनता की आस्था इनसे जुड़ी है। मैं पूछना चाहती हूं कि लोगों की धार्मिक आस्था से उन्हें क्या समस्या है।’’  

कांग्रेस ने LIC के IPO से ठीक पहले मोदी सरकार पर दागे सवाल 

  •  

    राजधानी में धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर हटाने की मांग करने के लिए भाजपा की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष आदेश गुप्ता पर निशाना साधते हुए आप नेता ने कहा, ‘‘अब आप हमसे कहेंगे कि हम जागरण नहीं करें, हम सुंदरकांड का पाठ नहीं कर सकते, हनुमान चालीसा नहीं पढ़ सकते। हमारी आस्था से खेलने वाले आदेश गुप्ता कौन हैं?’’   

ईद के मौके पर ममता बनर्जी ने साधा मोदी सरकार पर निशाना

  •  

  गुप्ता ने सोमवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखकर मांग की थी कि उच्चतम न्यायालय के आदेश अनुसार और इस संबंध में अन्य राज्यों की कार्रवाई के अनुरूप धार्मिक स्थानों एवं अन्य स्थलों से लाउडस्पीकर हटाये जाएं।      इससे कुछ घंटे पहले भाजपा सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने उप राज्यपाल अनिल बैजल से और राजधानी के तीनों नगर निगमों के आयुक्तों से इसी तरह का अनुरोध किया था।  

दिल्ली के मुख्य सचिव ने कहा- DMRC और DTC के बीच बेहतर तालमेल की जरूरत

    गुप्ता पर इस विषय पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए आप नेता ने पूछा कि धार्मिक स्थलों और अन्य स्थानों पर लाउडस्पीकर के उपयोग पर शीर्ष अदालत के आदेश का अनुपालन सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी जब दिल्ली पुलिस की है तो उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री को पत्र क्यों लिखा। 

comments

.
.
.
.
.