Monday, Jun 01, 2020

Live Updates: 68th day of lockdown

Last Updated: Sun May 31 2020 10:46 PM

corona virus

Total Cases

190,536

Recovered

91,621

Deaths

5,406

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA65,168
  • TAMIL NADU22,333
  • NEW DELHI19,844
  • GUJARAT16,794
  • RAJASTHAN8,831
  • MADHYA PRADESH8,089
  • UTTAR PRADESH8,075
  • WEST BENGAL5,501
  • BIHAR3,565
  • ANDHRA PRADESH3,461
  • KARNATAKA2,922
  • TELANGANA2,499
  • JAMMU & KASHMIR2,341
  • PUNJAB2,233
  • HARYANA1,923
  • ODISHA1,819
  • ASSAM1,217
  • KERALA1,209
  • UTTARAKHAND749
  • JHARKHAND563
  • CHHATTISGARH447
  • HIMACHAL PRADESH313
  • CHANDIGARH289
  • TRIPURA254
  • GOA70
  • MANIPUR60
  • PUDUCHERRY57
  • NAGALAND36
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS33
  • MEGHALAYA27
  • ARUNACHAL PRADESH3
  • DADRA AND NAGAR HAVELI2
  • DAMAN AND DIU2
  • MIZORAM1
  • SIKKIM1
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
lutyens delhi bungalow strict law passed recently by parliament for eviction of former mp

बंगला खाली नहीं करने वाले पूर्व सांसदों की क्लास लगाएगा नया कानून

  • Updated on 9/17/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सरकारी बंगलों में अनधिकृत तौर पर काबिज लोगों की सरकारी आवासीय संपत्तियों से बेदखली के लिये हाल ही में संसद द्वारा पारित सख्त कानून रविवार से लागू होने के कारण उन पूर्व सांसदों की भी मुश्किलें बढना तय है जिन्होंने लोकसभा चुनाव हारने के बाद अभी तक लुटियन दिल्ली में स्थित सरकारी बंगला खाली नहीं किया है।

अनुच्छेद 370 पर जम्मूकश्मीर पीपुल्स कांफ्रेस की याचिका पर विचार को तैयार सुप्रीम कोर्ट 

आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा सोमवार को जारी बयान के अनुसार सरकारी स्थान (अप्राधिकृत अधिभोगियों की बेदखली) संशोधन अधिनियम 2019 को 15 सितंबर से लागू कर दिया गया है। उल्लेखनीय है कि गत जून में हुये लोकसभा चुनाव में हारने वाले सांसदों में से 81 सांसदों ने अब तक दिल्ली स्थित सरकारी बंगला खाली नहीं किया है। 

मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि इन सांसदों को संसद सदस्यता खत्म होने की तारीख से 30 दिन के भीतर बंगला खाली करना था लेकिन ऐसा नहीं कर पाने वाले सांसदों को संपदा निदेशालय की ओर से 15 दिन का नोटिस भी भेजा जा चुका है।

PSA के तहत गिरफ्तार अब्दुल्ला के लिए उनका घर ही बना जेल

उन्होंने बताया कि अब नया कानून लागू होने के बाद 15 दिन के नोटिस की औपचारिकता पूरी करने की जरूरत नहीं होगी। संशोधित कानून के तहत अब कब्जाधारक को बंगला खाली नहीं करने का कारण बताने के लिये सिर्फ तीन दिन का समय देते हुये एक नोटिस जारी किया जा रहा है। संतोषजनक कारण नहीं बता पाने पर संपदा निरीक्षक संपत्ति को खाली करा सकेंगे। 

CBI कार्यालय नहीं पहुंचे कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त राजीव कुमार

उल्लेखनीय है कि 17 वीं लोकसभा के हाल ही में संपन्न हुये पहले संसद सत्र में मंत्रालय द्वारा पेश सरकारी स्थान (अप्राधिकृत अधिभोगियों की बेदखली) संशोधन विधेयक 2019 को दोनों सदनों से पारित किया गया था। इसे राष्ट्रपति की मंजूरी मिलने के बाद विधि एवं न्याय मंत्रालय ने नौ अगस्त को अधिसूचित कर दिया था। इसके बाद संपदा निदेशालय ने भी इसे बतौर कानून लागू करने की अधिसूचना 12 सितंबर को जारी कर दी। अधिसूचना के मुताबिक इस कानून को 15 सितंबर से प्रभावी घोषित किया गया है। 

फारुख अब्दुल्ला की गिरफ्तारी को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार को घेरा

केन्द्रीय कर्मचारियों, संसद सदस्यों और अन्य प्रमुख व्यक्तियों को सरकारी आवास के आवंटन, रखरखाव और खाली कराने का दायित्व मंत्रालय के अंतर्गत संपदा निदेशालय का है। सरकारी आवास के अनधिकृत उपयोग की समस्या से सख्ती से निपटने के लिये इस कानून में प्रभावी प्रावधान किये गये हैं।

मंत्रालय ने अपने बयान में स्पष्ट किया कि केन्द्र सरकार अपने कर्मचारियों, संसद सदस्यों और अन्य प्रमुख व्यक्तियों को उनके कार्यकाल के दौरान लाइसेंस के आधार पर आवासीय सुविधा मुहैया कराती है। आवंटन नियमों के मुताबिक आवंटी को कार्यकाल समाप्त होने पर आवास खाली नहीं करने पर उसे अनधिकृत कब्जे की श्रेणी में रखा जाता है। 

कॉलेजियम ने न्यायमूर्ति कुरैशी को पदोन्नति देने का निर्णय लिया है: सुप्रीम कोर्ट

संशोधित कानून लागू होने से पहले की प्रक्रिया के तहत सरकारी आवास खाली कराने में पांच से सात सप्ताह का समय लगता था। आवंटी द्वारा मामले को अदालत में ले जाने पर इस प्रक्रिया में लगभग चार सप्ताह का अतिरिक्त समय लगता था। इससे अधिक समय तक अदालती प्रक्रिया चलने पर मामला सालों साल चलता था।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.