पद्मावत:BJP के फर्जी मैसेज का शिकार हुईं मधु किश्वर , बाद में मांगी माफी

  • Updated on 1/26/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सोशल मीडिया पर प्रेषित होने वाले मैसेज की प्रमाणिकता अक्सर संदेह भरी होती है और ऐसे में अक्सर अनजाने में हम इस फॉरवर्ड कर देते हैं। कुछ ऐसा ही हुआ जानी-मानी लेखिका और प्रोफेसर मधु पूर्णिमा किश्वर के साथ।

किश्वर को ट्विटर पर मांफी भी मांगनी पड़ी।दरअसल हुआ यूं कि ट्विटर और वॉट्सएप पर गुरुवार रात काफी तेज़ी से फैले एक फर्जी संदेश को तकरीबन सही  मानकर किश्वर ने  ट्वीट कर दिया। बाद में गुरूग्राम पुलिस ने ट्वीट कर जानकारी दी जिसमें बताया गया कि इस विवाद में कोई गिरफ्तरी नहीं की गई है।जिसके बाद किश्वर ने ट्वीट कर मांफी मांगी।

Navodayatimes

राहुल गांधी को छठी पंक्ति में बिठाने को लेकर सोशल मीडिया पर छिड़ी मजेदार जंग

दरअसल, 25 जनवरी की शाम सोशल मीडिया पर एक संदेश वायरल हुआ जिसमें कहा गया था, ”गुड़गांव में स्कूल बस पर पथराव में करणी सेना के सद्दाम, आमिर, नदीम, फिरोज और अशरफ पकड़े गए।” स्‍कूली बस पर हमले के बाद गुरुग्राम पुलिस ने कुल 18 लोगों को हिरासत में लिया था। सोशल मीडिया पर फैलाए गए संदेश में इनमें शामिल पांच मुसलमानों सद्दाम, आमिर, फिरोज़, नदीम और अशरफ़ के नाम बताए गए थे।

उन्‍होंने लिखा था कि ”अगर यह खबर सही है तो और कुछ कहे जाने की जरूरत नहीं है।” चूंकि अब यह खबर गलत निकल गई है तो उन्‍हें कुछ तो कहना बनता था। उन्‍होंने इस भ्रामक ट्वीट के लिए बेशर्त माफी मांगी है।

आल्‍टन्‍यूज़ की पड़ताल के मुताबिक इस संदेश को प्रसारित करने में सबसे पहला नाम जिस व्यक्ति का आता है वह शालिनी कपूर हैं, जो खुद को भाजपा की युवा शाखा भारतीय जनता युवा मोर्चा (बीजेयूएम) के “कन्या शक्ति क्रांति”की “क्षेत्रीय प्रभारी”बताती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.