Monday, May 23, 2022
-->
madras high court advocated more autonomy in functioning of cbi like fbi rkdsnt

कोर्ट ने CBI की स्वायत्तता के लिए विशेष कानून बनाने पर दिया जोर

  • Updated on 8/18/2021

नई दिल्ली / टीम डिजिटल। मद्रास उच्च न्यायालय ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को बिना सरकारी नियंत्रण के और सीधे प्रधानमंत्री को रिपोर्ट करने वाले विभागों के समकक्ष कामकाज में स्वायत्ता देने का पक्ष लिया है। उच्च न्यायालय की मदुरै पीठ ने मंगलवार को कहा कि अदालत जब भी कोई गंभीर मामला एजेंसी को सौंपना चाहती है तो वह पीछे हट जाती है क्योंकि जांच के लिए इसके पास संसाधनों और मानव बल की कमी है।     

मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में स्वीकारा कि पेगासस का इस्तेमाल हुआ : चिदंबरम

जस्टिस एन. किरूबाकरन और जस्टिस बी. पुगालेंदी ने कहा कि एजेंसी को सरकार के प्रशासनिक नियंत्रण के बगैर कामकाज में स्वतंत्र बनाया जाना चाहिए। इसके निदेशक को सरकार के सचिव के बराबर शक्ति दी जानी चाहिए और उन्हें प्रधानमंत्री या संबंधित मंत्री को रिपोर्ट करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सीबीआई को स्वायत्त दर्जा देने के लिए विशेष कानून बनाने की जरूरत है। 

राकेश अस्थाना की नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका पर नोटिस जारी करने से कोर्ट का इनकार

अदालत तमिलनाडु के रामनाथपुरम जिले के याचिकाकर्ताओं की एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी जिसमें 300 करोड़ रुपये की ठगी के एक मामले को सीबीआई की विशेष जांच टीम (एसआईटी) को सौंपने का आग्रह किया गया। न्यायाधीशों ने कहा, ‘‘यह वजह (संसाधनों एवं मानव बल की कमी) अदालत के समक्ष बार-बार दोहराई जाती है।’’ न्यायाधीशों ने सुझाव दिया कि प्रतिष्ठित एजेंसी को इतना सुसज्जित किया जाए कि यह अमेरिका की एफबीआई और स्कॉटलैंड यार्ड के बराबर हो जाए।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.