Thursday, Aug 13, 2020

Live Updates: Unlock 3- Day 13

Last Updated: Thu Aug 13 2020 03:01 PM

corona virus

Total Cases

2,400,418

Recovered

1,698,038

Deaths

47,176

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA535,601
  • TAMIL NADU314,520
  • ANDHRA PRADESH254,146
  • KARNATAKA196,494
  • NEW DELHI148,504
  • UTTAR PRADESH136,238
  • WEST BENGAL104,326
  • BIHAR90,553
  • TELANGANA86,475
  • GUJARAT74,390
  • ASSAM61,738
  • RAJASTHAN56,708
  • ODISHA52,653
  • HARYANA43,227
  • MADHYA PRADESH40,734
  • KERALA34,331
  • JAMMU & KASHMIR24,897
  • PUNJAB23,903
  • JHARKHAND18,156
  • CHHATTISGARH12,148
  • UTTARAKHAND9,732
  • GOA8,712
  • TRIPURA6,497
  • PUDUCHERRY5,382
  • MANIPUR3,753
  • HIMACHAL PRADESH3,536
  • NAGALAND2,781
  • ARUNACHAL PRADESH2,155
  • LADAKH1,688
  • DADRA AND NAGAR HAVELI1,555
  • CHANDIGARH1,515
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS1,490
  • MEGHALAYA1,062
  • SIKKIM866
  • DAMAN AND DIU838
  • MIZORAM620
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
magh mela 2020 prayagraj ganga yamuna magh mela allahabad 20

जानें आज से शुरू होने वाला क्या है माघ मेला और इसका महत्व

  • Updated on 1/10/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। गंगा (Ganga), यमुना (Yamuna) और सरस्वती (Saraswati) के संगम की नगरी प्रयागराज (Prayagraj) में माघ मेला 2020 (Magh Mela 2020) का श्रीगणेश आज से शुरू हो चुका है। जप, तप, स्नान, ध्यान और दान के कल्पवास की भी इसी दिन से शुरुआत हो गया है।

यह मेला आज यानी 10 जनवरी से शुरू होकर महाशिवरात्रि यानि 21 फरवरी तक चलेगा। बता दें कि मेला प्रशासन ने प्रथम स्नान पर्व पर 32 से 40 लाख तक श्रद्धालुओं के संगम में डुबकी लगाने का अनुमान लगाया है, जो मौनी अमावस्या के दिन करीब दो करोड़ तक पहुंचेगा। 

आज से शुरू होने जा रहा है माघ मेला, सीएम योगी ने दी शुभकामनाएं

पवित्र नदी के पास बिताए समय
धार्मिक तौर पर 43 दिन तक चलने वाले माघ मेला बहुत महत्व रखता है। मानव के शरीर में 70 फीसदी पानी होता है। इसलिए माना जाता है कि माघ माह में किसी भी पवित्र नहीं के पास अधिक से अधिक समय बिताना, नहाना, तप करना बहुत जरूरी है। 

माघ मेला 2018 शुरू, लाखों श्रद्धालुओं ने किया इलाहाबाद में स्नान

धार्मिक मान्यता
धार्मिक मान्यता के अनुसार ब्रह्मा, विष्णु, महादेव आदित्य, मरुद्रण और अन्य सभी देवी-देवता इसी माघ मास में संगम स्नान करते हैं। ऐसा माना जाता है कि प्रयाग में माघ मास में तीन बार स्नान करने से जो फल मिलता है, वे पृथ्वी पर दस हजार अश्वमेघ यज्ञ करने से भी प्राप्त नहीं होता। 

माघ स्नान से मनुष्य के शरीर में स्थित पाप जल कर भस्म होते हैं। पौष पूर्णमासी से माघ स्नान शुरू होता है। स्नान का सबसे उत्तम समय तभी माना जाता है। जब आकाश में तारागण दिखाई दे रहे हों यानी सूयार्दय से पूर्व। 

हरिद्वारः गंगा ने पार किया खतरे का निशान, वैरागी कैम्प में बाढ़ जैसे हालात

स्नान का महत्व
पौष माह की पूर्णिमा पर सूर्योंदय से पहले उठना चाहिए। इसके बाद तीर्थ या पवित्र नदियों में स्नान करना चागहिए। ऐसा संभव न हो तो घर पर ही पानी में गंगाजल मिलाकर नहाना चाहिए। इसके बाद पूरे दिन व्रत और दान का संकल्प लेना चाहिए। फिर किसी तीर्थ पर जाकर नदी की पूजा करनी चाहिए। माना जाता है कि नदी पूजा, स्नान से मोक्ष प्राप्त होता है। 

मोदी सरकार के न्यू इंडिया के बीच पोस्ट ऑफिस बेच रहा है गंगा जल, उठे सवाल

इस बार की तैयारी
माघ मेले में कल्प वासियों और श्रद्धालुओं के स्नान के लिए इस बार 5 किलोमिटर लंबा स्नान घाट तैयार किया गया है। जिसमें 16 स्नान घाट बनाए गए हैं। साथ ही माघ मेले में आए श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए साइनेज और घाट एरिया में लगाये गए है श्रद्धालुओं मदद के लिए 400 से अधिक साइनेज की व्यवस्था की गई है।

इसमें 70 फीसदी दिशात्मक काइनेज और 30 फीसदी सूचनात्मक साइनेज है। इसके साथ ही विभिन्न सेक्टरों में स्नान घाट बनाए जा रहे हैं। जो कि लागभग 10,000 स्क्वायर फीट के एरिया में है।

नमामि गंगे: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नाव पर बैठकर गंगा की सफाई का लिया जायजा

सुरक्षा के इंतेजाम 
माघ मेले की भीड़ को देखते हुए शहर में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है जबकि भारी वाहनों के रूट में भी बदलाव किया गया। दिन के समय भारी वाहनों के शहर पर रोक लगाई गई है। सुरक्षा और स्वच्छता की दृष्टी से मेले में विशेष इंतजाम किये गए है।

पहले मेले के मद्देनजर 112 डायल और 20 चार पहिया और 25 दोपहिया वाहनों को लगाया गया है। मेले में निगरानी के लिए 175 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। मेले क्षेत्र में 13 थाने और 38 पुलिस चौकियां स्थापित की गई है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.