Saturday, May 08, 2021
-->
mahant nritya gopal das invite pm narendra modi in ayodhya ram mandir

PM मोदी से मिले राम मंदिर ट्रस्ट के सदस्य, अयोध्या आने का दिया न्यौता

  • Updated on 2/21/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। 'राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट' के अध्यक्ष प्रबंध महंत नृत्य गोपाल दास (Mahant Nritya Gopal Das) समेत ट्रस्ट के सदस्यों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से यहां उनके आवास पर मुलाकात की और उन्हें अयोध्या (Ayodhya) आने का निमंत्रण दिया। अयोध्या में राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण के लिए हाल ही में गठित श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र की पहली बैठक बुधवार को हुई थी।

VHP के मॉडल पर ही बनेगा अयोध्या का राम मंदिर

PM मोदी को अयोध्या आने का न्यौता
ट्रस्ट के महासचिव और विश्व हिंदू परिषद नेता चंपत राय (Champat Rai) तथा कोषाध्यक्ष स्वामी गोविंद देव गिरि भी बैठक में उपस्थित थे। मुलाकात के बाद महंत नृत्य गोपाल दास ने संवाददाताओं से कहा कि हमने प्रधानमंत्री को अयोध्या आने का निमंत्रण दिया। बाद में राय ने बताया कि न्यासी प्रधानमंत्री मोदी से मिले और यह एक शिष्टाचार मुलाकात थी।

VHP का कार्यक्रम 25 मार्च से 8 अप्रैल तक चलेगा
इस बीच, विहिप के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा कि रामनवमी के मौके पर 25 मार्च से 8 अप्रैल तक 'रामोत्सव' मनाया जाएगा। इस उत्सव के दौरान विहिप कार्यकर्ता देशभर के 2.75 लाख गांवों में पहुंचेंगे जिन्होंने राम जन्मभूमि आंदोलन में योगदान दिया था। 

CM बनने के बाद पहली बार दिल्ली आएंगे उद्धव ठाकरे, PM और सोनिया से करेंगे मुलाकात

SBI में खुलेगा न्यास का बैंक खाता
न्यास की दिल्ली (Delhi) में बुधवार को हुई बैठक में महंत नृत्य गोपाल दास को राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास का 'अध्यक्ष प्रबंध', विहिप के चंपत राय को महासचिव एवं पूर्व वरिष्ठ नौकरशाह नृपेन्द्र मिश्रा को भवन निर्माण समिति का चेयरमैन बनाया गया है। स्वामी गोविंददेव गिरि जी को कोषाध्यक्ष बनाया गया है। अयोध्या में भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की शाखा में न्यास का बैंक खाता खोलने का निर्णय किया गया है।

महाकाल के जयकारों से गूंजे शिवालय, मंदिर में लगी भक्तों की लंबी कतार

लोकसभा में PM मोदी ने किया था ट्रस्ट का जिक्र
राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले में उच्चतम न्यायालय के पिछले साल 9 नवंबर को दिए गए ऐतिहासिक फैसले के बाद नरेन्द्र मोदी सरकार ने इस 15 सदस्यीय ट्रस्ट का गठन किया था। फैसले में विवादास्पद स्थल पर मंदिर के निर्माण की अनुमति दी गई थी। हिंदुओं का मानना है कि इसी स्थल पर भगवान राम का जन्म हुआ था। ट्रस्ट के गठन की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा (Lok Sabha) में की थी।

ट्रस्ट का मुख्यालय भी अयोध्या में ही बनेगा
श्रीराम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास का मुख्यालय दिल्ली के ग्रेटर कैलाश के पते पर है, लेकिन आने वाले दिनों में अयोध्या धाम में ही न्यास का स्थाई मुख्यालय अथवा स्थाई कार्यालय बनेगा। साथ ही स्टेट बंैक के अयोध्या ब्रांच में खाते के साथ लॉकर भी लिया जाएगा। जिसमें फंड के अलावा रामलला व मंदिर से जुड़े अन्य जरूरी दस्तावेजों व कीमती आभूषणों को भी रखा जा सकता है। 

#महाशिवरात्रि 2020: राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और PM मोदी ने दी देशवासियों को शुभकामनाएं

निर्माण के दौरान दूसरी जगह रहेंगे रामलला
मंदिर निर्माण से पहले निर्माण समिति जल्द ही अधिग्रहित भूमि का निरीक्षण करेगी। माना जा रहा है कि मंदिर निर्माण के दौरान रामलला दूसरी जगह विराजेंगे। फिर जमीन को समतल करने का काम होगा। चूंकि संत समाज का मानना है कि मंदिर बेहद भव्य बने, इसके लिए निर्धारित 67 एकड़ भूमि कम पड़ सकती है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.