Saturday, Jul 31, 2021
-->
maharashtra corona virus havoc in nagpur bastion of rss death of 60 infected rkdsnt

आरएसएस के गढ़ नागपुर में कोरोना का कहर, 60 संक्रमितों की मौत

  • Updated on 4/1/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। महाराष्ट्र के नागपुर जिले में बृहस्पतिवार को 3,630 और लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई जबकि 60 मरीजों की मौत दर्ज की गई। जिला सूचना कार्यालय द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक नए मामले आने के साथ ही नागपुर में अबतक संक्रमित होने वालों की कुल संख्या 2,29,668 तक पहुंच गई है जिनमें से 5,158 लोगों की मौत हो चुकी है। 

अंबानी सुरक्षा मामला: NIA ने मुंबई के क्लब पर मारा छापा

कार्यालय के मुताबिक मृतकों में 3,283 नागपुर शहर के हैं जबकि 1,875 मृतक जिले के ग्रामीण इलाकों के रहने वाले थे। अधिकारियों के मुताबिक बृहस्पतिवार को 2,928 मरीजों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई। अबतक जिले में 1,84,537 मरीज ठीक हो चुके हैं। जिला सूचना कार्यालय के अनुसार इस समय जिले में 39,973 मरीज उपचाराधीन हैं। जानकारी के मुताबिक नागपुर जिले में अबतक कुल 16,42,155 नमूनों की जांच की गई है जिनमें से 17,879 नमूनों की जांच गत 24 घंटे में की गई। 

मुंबई में मार्च में कोविड-19 के 88,710 मामले
मुंबई में इस साल मार्च में कोविड-19 के 88,710 मामले सामने आए हैं, जो कि फरवरी में सामने आए कुल मामलों से 475 फीसदी ज्यादा है। बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने यह जानकारी दी। इस साल शहर में फरवरी के महीने में 18,359 मामले सामने आए थे, वहीं जनवरी में यह आंकड़ा 16,328 था। इसका मतलब हुआ कि मार्च में मुंबई में पिछले महीने की तुलना में 70,351 ज्यादा मामले सामने आए। वहीं, जनवरी की तुलना में 72,382 ज्यादा मामले सामने आए। 

यूपी पंचायत चुनाव: गाजियाबाद में 161 ग्राम प्रधानों के निर्वाचन के लिए 15 अप्रैल को वोटिंग

आंकड़ों के अनुसार, मार्च में संक्रमण की वजह से यहां 216 लोगों की जान गई जबकि फरवरी में 119 लोगों की मौत हुई थी। फरवरी की तुलना में मार्च का आंकड़ा 181 फीसदी ज्यादा है। जनवरी में संक्रमण से 237 लोगों की मौत हुई थी। शहर में 31 मार्च तक संक्रमितों की संख्या बढ़कर 4,14,714 हो गई थी जबकि मृतकों की संख्या 11,686 तक पहुंच गई थी। बीएमसी के आंकड़ों के अनुसार, 31 मार्च को यहां 51,411 मरीजों का उपचार चल रहा था जबकि फरवरी के अंत में सिर्फ 9,715 मरीजों का उपचार हो रहा था। 

जबरन धर्मांतरण रोकने को लेकर भाजपा नेता ने दाखिल की सुप्रीम कोर्ट में याचिका

मुंबई में संक्रमण के मामले बढऩे के साथ ही मार्च के अंत में स्वस्थ होने की दर घटकर 85 फीसदी रह गई थी जबकि फरवरी के अंत में यह 93 प्रतिशत था। आंकड़ों के अनुसार संक्रमण में वृद्धि दर फरवरी के अंत में दर्ज 0.28 प्रतिशत से बढ़कर मार्च अंत तक 1.37 प्रतिशत हो गया। वहीं मामले दोगुने होने की अवधि भी 245 से घटकर 49 दिन हो गई। मुंबई में मध्य फरवरी से संक्रमण के मामलों में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की जाने लगी थी लेकिन उस समय मृतकों की संख्या में ज्यादा वृद्धि नहीं थी। हालांकि, पिछले सप्ताह से ङ्क्षचताजनक तरीके से मृतकों की संख्या भी बढऩे लगी है। शहर में अब तक टीके की 11.52 लाख से ज्यादा खुराक लोगों को दी जा चुकी है।     

केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष को एकजुट करने में जुटी ममता बनर्जी 

 

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

comments

.
.
.
.
.