Wednesday, Sep 18, 2019
maharashtra electoral fears harassing bjp government demanding change in new motor vehicle act

महाराष्ट्रः बीजेपी सरकार को सताने लगा चुनावी डर, नए मोटर व्हीकल एक्ट में बदलाव की मांग की

  • Updated on 9/11/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश भर में नए मोटर व्हीकल एक्ट को लेकर मोदी सरकार (modi government) न सिर्फ आम जनता के निशाने पर हैं बल्कि बीजेपी (bjp) शासित राज्य के मुखिया भी अब इसके कड़े नियम के पक्ष में नहीं हैं। अभी गुजरात (gujrat) ने सबसे पहले मोटर व्हीकल एक्ट के जुर्माने में भारी कटौती करने का फैसला किया है। उसके बाद महाराष्ट्र (maharastra) में सीएम देवेंद्र फड़नवीस (devendra fernvis) की सरकार जल्द ही फैसला ले सकती है, इसके संकेत मिलने शुरु हो गए है।

ममता बनर्जी का ऐलान, कहा- बंगाल में नहीं होगा लागू नया मोटर व्हीकल एक्ट

कुछ ही दिन में होने है महाराष्ट्र में चुनाव
असल में महाराष्ट्र के सीएम को राज्य में आगामी विधानसभा चुनाव का डर सताने लगा है। जिसमें जनता के नाराजगी की चिंता होने लगी है। महाराष्ट्र सरकार ने केंद्रीय परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी को पत्र लिखकर गुजारिश की है कि चूंकि जनभावना इतने जुर्माने लगाने से आहत है, इसलिये हमारी सरकार नया जुर्माना को लागू करने को हरी झंडी नहीं दे सकते है। इस पत्र में आगामी विधानसभा चुनाव का भी जिक्र किया गया है कि लोगों में इसका गलत संदेश जा सकता है,जिससे हमें बचना चाहिये। महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने नए यातायात नियमों में भारी जुर्माना पर विचार करने की मांग की है।

मथुरा में बोले PM मोदी- पशुधन और पर्यावरण भारत के आर्थिक चिंतन का हिस्सा

जनता में नए मोटर एक्ट को लेकर है रोष
महाराष्ट्र सरकार ने कहा है कि इस कानून से जनता में काफी रोष देखने को मिल रहा है। लिहाजा इस पर फिर से विचार किया जाना चाहिये। पत्र में सुझाव दिया गया है कि चालान की राशि काफी ज्यादा रखी गई है। जिसे घटाने पर तत्काल विचार होनी चाहिये। हालांकि नितिन गडकरी ने साफ कर दिया है कि कोई भी राज्य सरकार इस कानून से बंधा हुआ नहीं है, अपने राज्य की जनता को राहत देने के लिये कोई भी कदम उठा सकता है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.