Sunday, Nov 28, 2021
-->
maharashtra governor koshiyari requests election commission mlc amid uddhav thackeray rkdsnt

महाराष्ट्र में संवैधानिक संकट: राज्यपाल ने गेंद ECके पाले में डाली, उद्धव का पेंच फंसा

  • Updated on 4/30/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। महाराष्ट्र में संवैधानिक संकट के बीच राज्यपाल  भगत सिंह कोश्यारी ने गेंद अब चुनाव आयोग के पाले में डाल दी है। राज्यपाल ने चुनाव आयोग से गुजारिश की है कि 9 खाली पड़ी एमएलसी सीटों के चुनाव घोषित किए जाएं। इसके साथ ही उद्धव ठाकरे का पेंच फंस गया है। साफ है कि अब ठाकरे को एमएलसी चुनाव लड़ना होगा। बता दें कि राज्यपाल कोटे से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को एमएलसी मनोनीत होने का इंतजार था, लेकिन इसमें लगातार देरी हो रही थी। राज्यपाल ने इसको लेकर अभी तक फैसला नहीं किया। 

यशवंत सिन्हा बोले- क्या BJP वही पार्टी है, जिसे वाजपेयी का नेतृत्व मिला था, शर्मनाक!

गुजरात में बढ़ती जा रही कोरोना संक्रमितों की संख्या, अब तक 214 की मौत

बता दें कि महाराष्ट्र सरकार ने उद्धव को एमएलसी नामित करने के लिए कैबिनेट से 2 बार प्रस्ताव पास कर राज्यपाल को भेजा,  लेकिन अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया। इससे प्रदेश में संवैधानिक संकट के हालात पैदा हो गए हैं। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कल ही राज्यपाल भगत से खिंचतान को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से संपर्क साधा था। 

कोरोना संकट में मुकेश अंबानी के रिलायंस ग्रुप में भी पड़े सैलरी के लाले

ठाकरे ने देर रात पीएम मोदी से राजनीतिक हालात पर फोन पर बात की थी। सूत्रों के मुताबिक ठाकरे ने पीएम मोदी से कहा है कि मौजूदा समय कोरोना से लड़ने का है, ऐसे में प्रदेश में राजनीतिक संकट खड़ा कर प्रदेश सरकार को अस्थिर करने से कुछ भी भला नहीं होगा। जनता भी में एक गलत संदेश जाएगा। इस समय सभी को कोरोना से लड़ने की दिशा में काम करने के जरूरत है। 

बैंक डिफॉल्टर्स को लेकर चिदंबरम बोले- RBI के पास बचा है अब आखिरी रास्ता

इससे पहले शिवसेना के संजय राउत अपने ट्वीट में साफ कर चुके थे कि सियासत करने से कुछ नहीं होने वाला है। उद्धव ठाकरे 6 महीने बाद भी प्रदेश के मुख्यमंत्री बने रहेंगे। विपक्ष फिर चाहे कुछ भी कर ले। बता दें कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार गिरने के बाद भाजपा की निगाहें अब महाराष्ट्र पर भी हैं। 

कोरोना कहर : सरकारी कर्मचारियों की नेशनल पेंशन स्कीम (NPS) पर भी है सरकार की टेढ़ी नजर

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.