Tuesday, Nov 30, 2021
-->
mahatma-gandhi-great-grandson-tushar-challenges-bjp-sabarmati-ashram-scheme-in-court-rkdsnt

महात्मा गांधी के प्रपौत्र तुषार ने साबरमती आश्रम योजना को गुजरात हाई कोर्ट में दी चुनौती 

  • Updated on 10/27/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के प्रपौत्र तुषार गांधी ने राज्य सरकार की अहमदाबाद स्थित साबरमती आश्रम पुनर्विकास परियोजना को चुनौती देते हुए गुजरात उच्च न्यायालय में एक जनहित याचिका दायर की है। हाल ही में दायर इस याचिका पर दिवाली की छुट्टी के बाद सुनवाई होने की संभावना है। 

पेगासस पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद उत्साहित राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर बोला हमला

सरकार ने महात्मा गांधी और भारत के स्वतंत्रता संग्राम से निकट से जुड़े साबरमती आश्रम के पुनर्विकास का प्रस्ताव किया है। सरकार का प्रस्ताव पास में स्थित 48 मौजूदा विरासत संपत्ति को एक साथ लाकर आश्रम को विश्वस्तरीय पर्यटक केंद्र के रूप में विकसित करने का है। तुषार गांधी ने बुधवार को कहा कि उन्होंने जनहित याचिका में सरकार की 1,200 करोड़ रुपये की गांधी आश्रम स्मारक एवं परिसर विकास परियोजना को चुनौती दी है क्योंकि यह राष्ट्रपिता की इच्छा और दर्शन के खिलाफ है। 

पेगासस की जननी NSO अब मोदी सरकार के बचाव में उतरने की कोशिश करेगी : भाकपा

उन्होंने कहा कि जनहित याचिका में गुजरात सरकार को उन सभी छह ट्रस्टों के साथ प्रतिवादी बनाया गया है जो साबरमती आश्रम की विभिन्न गतिविधियों की देखभाल करते हैं। इसके साथ ही गांधी स्मारक निधि और अहमदाबाद नगर निगम (एएमसी) तथा परियोजना से जुड़े अन्य लोगों को भी प्रतिवादी बनाया गया है। 

ऐलनाबाद उपचुनाव: किसान आंदोलन और कृषि कानून का मुद्दा छाया रहा चुनाव प्रचार में

लेखक और सामाजिक कार्यकर्ता तुषार गांधी ने कहा, ‘‘हमने इन ट्रस्टों के सामने सवाल उठाया है कि वे अपनी जिम्मेदारी क्यों नहीं निभा रहे हैं?' उन्होंने कहा कि राज्य को हस्तक्षेप करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए क्योंकि गांधी स्मारक निधि के संविधान में कहा गया है कि बापू के आश्रम और स्मारकों को सरकार और राजनीतिक प्रभाव से दूर रखा जाना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.