#HappyMakarSankranti: 15 जनवरी को मनाई जाएगी मकर संक्रांति, इन मंत्रों के जाप से पाए लाभ

  • Updated on 1/14/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नए साल का आगाज हो गया है और इसी के साथ कई त्यौहार  भी कतार में शामिल है, जिसकी धूम पूरे देश में मची हुई है। इन्हीं त्यौहारों में सबसे पहले आता है लोहड़ी और फिर मकर संक्रांति। यह पूरे भारत में मनाए जाने वाले प्रमुख पर्व है।

इस बार मकर संक्रांति 14 जनवरी को नहीं बल्कि 15 जनवरी को मनाई जा रही है। इस दिन ही प्रयागराज में चल रहे कुंभ का पहला शाही स्नान भी होगा। संक्रात को देश में कई और नाम से भी जाना जाता है-जैसे माघी, पोंगल, उत्तरायण, खिचड़ी और बड़ी संक्रांति। इस दिन देश के कई हिस्सों में अलग-अलग पकवानों के साथ पतंग उड़ाने का भी जोश लोगों में रहता है

अर्द्धकुंभ 2019: कुंभ में स्नान करने से मिलेंगे कई लाभ, पढ़ें खास बातें

पूजा विधि
इस दिन सुबह किसी नदी, तालाब शुद्ध जलाशय में स्नान करें। इसके बाद साफ कपड़े पहनकर सूर्य देवता की पूजा करें। इसके बाद गरीबों को दान करें। इसके बाद घर में प्रसाद ग्रहण करने से पहले आग में थोड़ी सा गुड़ और तिल डालें और अग्नि देवता को प्रणाम करें।

कुंभ 2019: प्रयागराज कुंभ की ये बातें बनाती हैं इसे और भी खास, विदेश से भी खिंचे चले आते हैं भक्त

इन मंत्रों का करें जाप
सूर्य के मकर राशि में प्रवेश पर उसकी किरणों से अमृत कू बरसात होने लगती है। इस दिन से सूर्य उत्तरायण होते हैं, इसलिए मकर संक्रांति पर सूर्य की पूजा का विशेष महत्व है। मान्यता है कि अगर संक्रांति पर इन 5 मंत्रों का जाप किया जाए तो लाभ अवश्य होता है।

कुंभ में भोले को जमकर चढ़ाए भांग, सरकार ने नहीं लगाई कोई रोक

  • ओम घृणिं सूर्य्य: आदित्य:।
  • ओम ह्रीं ह्रीं सूर्याय सहस्त्रिकरणराय मनोवांछित फलम् देहि देहि स्वाहा।
  • ओम ऐहि सूर्य सहस्त्रांशों तेजो राशे जगत्पते, अनुकंपयेमां भक्तया, गृहाणार्घय दिवाकर:।
  • ओम ह्रीं घृणि: सूर्य आदित्य: क्लीं ओम।
  • ओम ह्रीं ह्रीं सूर्याय नम:।

शुभ मुहूर्त
संक्रांति आरंभ-14 जनवरी 2019 रात 7:05 से
पुण्य काल मुहूर्त- 07:14 से 12:36 तक (15 जनवरी)
महापुण्य काल मुहूर्त- 07:14 से 09:01 तक (15 जनवरी)

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.