malik-raised-voise-on-arbitrary-fee-hike-buy-private-schools

शिक्षा माफिया के खिलाफ श्वेत मलिक ने संसद में उठाई जोरदार आवाज 

  • Updated on 7/27/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। बीजेपी (BJP) के प्रदेशाध्यक्ष व सांसद श्वेत मलिक ने आज पंजाब (Punjab) में प्र्राइवेट स्कूलों द्वारा मनमानी करते वसूली जाने वाली भारी फीस के खिलाफ संसद में जोरदार आवाज उठाई। 

भारी फीसें लेकर लूट मचा रहे कई प्राइवेट स्कूल
मलिक (Malik) ने कहा कि स्कूल शिक्षा (School Education) का मंदिर हैं पर कुछ प्राइवेट स्कूलों (Private schools) ने इसे भारी रकम बटोरने का व्यवसाय बना लिया है व डोनेशन (Donation), बिल्डिंग फीस (Building Fees), ट्रांसपोर्ट (Transport), स्कूल यूनिफॉर्म, लाइब्रेरी व लैबोरेटरी फीस (Laboratory fees), स्कूल टूर, प्रोजैक्ट्स, स्पोर्ट्स फीस के माध्यम से बच्चों के माता-पिता से भारी रकम वसूल रहे हैं। 

इस रंग की टिकट में महिलाओं को मिलेगी DTC और Metro में मुफ्त यात्रा

फीस डकार रहें स्कूल 
उन्होंने कहा कि माता-पिता (Parents) सीमित आय (Limited Income) के बावजूद बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलाने का सपना देखते हैं जिस पर भारी फीस डकारने वाले यह स्कूल ग्रहण लगा देते है। मलिक ने कहा कि बच्चों की शिक्षा के लिए अपना पेट काटकर मां-बाप भारी फीस देकर व समाज में झूठी शान की खातिर अत्याचार चुपचाप सहते हैं। 

अलका लाम्बा ने दी चेतावनी, न निभाया ये वादा तो सीएम स्टाइल में दूंगी धरना

स्कूल अब व्यवसाय है
प्राइवेट स्कूलों की जमापूंजी में इतनी वृद्धि होती जा रही है कि आज बड़े उद्योगपति स्कूल व्यवसाय से जुड़ते जा रहे हैं। कान्वैंट व निजी स्कूलों द्वारा हर वर्ष कोर्स बदलने से जहां अभिभावक अपने बड़े बच्चों की किताबें दोबारा प्रयोग में नहीं ला पाते वहीं निजी प्रकाशकों की किताबों व कापियों के मनमाने ढंग से दाम बढ़ाने पर कोई लगाम न होने से अभिभावकों को कई गुना तक अपनी जेब ढीली करनी पड़ रही है। 

ट्रांसजेंडर बिल देता है बलात्कार को बढ़ावा : महिला आयोग 

टैक्स चोरी कर रहे स्कूल 
मलिक ने वित्त मंत्री से भी मांग की कि जो थोड़े समय में इन प्राइवेट स्कूलों की आय में भारी वृद्धि होती है उसमें टैक्स चोरी की भी जांच करें। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.