Wednesday, Jul 24, 2019

आलोक वर्मा को CBI से हटाने के फैसले से खुश नहीं हैं मल्लिकार्जुन खड़गे

  • Updated on 1/10/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आलोक वर्मा के भविष्य पर विचार करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में गुरुवार को हुई उच्चाधिकार प्राप्त चयन समिति की बैठक में लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खडग़े ने सीबीआई निदेशक को पद से हटाने के कदम का विरोध किया। चयन समिति ने वर्मा को पद से हटाने का फैसला किया है। दो दिन पहले ही उच्चतम न्यायालय ने वर्मा को इस पद पर बहाल किया था।

CBI बनाम सीबीआई : अस्थाना की याचिका को लेकर कोर्ट के फैसले पर सबकी नजरें

सूत्रों के अनुसार बैठक के दौरान समिति के सदस्य खड़गे ने कहा कि वर्मा को दंडित नहीं किया जाना चाहिए और उनका कार्यकाल 77 दिन के लिए बढ़ाया जाना चाहिये। इस अवधि के लिए वर्मा को छुट्टी पर भेज दिया गया था। यह दूसरा मौका है जब खड़गे ने वर्मा को पद से हटाने पर आपत्ति जताई। 

पीएम मोदी की चहेती आयुष्मान भारत योजना से अलग हुई ममता सरकार

तीन सदस्यीय समिति में प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई के प्रतिनिधि के तौर पर जस्टिस ए के सीकरी भी शामिल थे। सूत्रों के अनुसार बैठक के दौरान न्यायमूॢत सीकरी ने कहा कि वर्मा के खिलाफ कुछ आरोप हैं, इसपर खड़गे ने कहा, ‘‘आरोप कहां हैं।’’

AAP ने शीला दीक्षित की वापसी पर किया कांग्रेस पर कटाक्ष

कांग्रेस ने अपने ट्िवटर हैंडल से किये गए ट्वीट में कहा, ‘‘आलोक वर्मा को उनका पक्ष रखने का मौका दिये बिना पद से हटाकर प्रधानमंत्री मोदी ने एकबार फिर दिखा दिया है कि वह जांच--चाहे वह स्वतंत्र सीबीआई निदेशक से हो या संसद या जेपीसी के जरिये-- को लेकर काफी भयभीत हैं।’’ 

आलोक वर्मा को हटाने पर कांग्रेस बोली- जांच से डरे हुए हैं पीएम मोदी

वर्मा को भ्रष्टाचार और कर्तव्य निर्वहन में लापरवाही के आरोप में पद से हटाया गया। इसके साथ ही एजेंसी के इतिहास में इस तरह की कार्रवाई का सामना करने वाले वह सीबीआई के पहले प्रमुख बन गए हैं।

PM के नेतृत्व वाली सेलेक्ट कमेटी ने की वर्मा की छुट्टी, नागेश्वर होंगे अंतरिम CBI चीफ

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.