Friday, Sep 30, 2022
-->
mamata-banerjee-attacks-modi-govt-on-swiss-bank-case-jdu-also-expressed-concern

स्विस बैंक मामले में ममता का मोदी सरकार पर हमला, JDU ने भी जताई चिंता

  • Updated on 6/29/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने स्विस बैंक में भारतीयों के धन में बढ़ोतरी को लेकर आज केंद्र की मोदी सरकार की जमकर आलोचना की। ममता ने इसके लिए नोटबंदी को जिम्मेदार ठहराया। 

AirAsia के डायरेक्टर वेंकटरमणन पर सीबीआई ने कसा शिकंजा

ममता ने उन रिपोर्टों का हवाला दिया, जिनमें स्विस बैंक में भारतीयों के धन पर 50 फीसदी की बढ़ोतरी की बात कही गई है। उन्होंने कहा कि यह तब हुआ है जब घरेलू बैंकों को नुकसान हो रहा है। ममता ने ट्विटर पर कहा, 'वाह नोटबंदी? स्विस बैंक में धन बढ़ रहा है। भारत को नुकसान हो रहा है।'

राजस्थान प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बने मदनलाल, संघ के रहे हैं कर्मठ कार्यकर्ता

तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख नवंबर 2016 में किए गए केंद्र के नोटबंदी के फैसले की नियमित तौर पर आलोचना करती रही हैं। इसके साथ ही एनडीए की सहयोगी और बिहार में भाजपा के साथ सरकार चला रही जेडीयू ने भी इस मसले पर अपनी चिंता जाहिर की है। 

जम्मू-कश्मीर के गवर्नर वोहरा ने नियुक्त किया तीसरा सलाहकार

जेडीयू ने भी उठाए सवाल
जनता दल यूनाइटेड ने स्विस बैंकों में 2017 में भारतीयों की जमाराशि में 50 फीसदी की वृद्धि की खबर को ‘ गंभीर चिंता ’ का विषय करार दिया। जदयू प्रवक्ता के सी त्यागी ने कहा कि उनकी पार्टी को उम्मीद था कि मोदी सरकार द्वारा नवंबर , 2016 में की गई नोटबंदी से कालेधन पर करारा प्रहार हुआ होगा, लेकिन ‘ताजा आंकड़े गंभीर चिंता के विषय हैं।

पूर्ण राज्य की मांग को लेकर AAP शुरु करेगी अभियान 'दिल्ली मांगे अपना हक'

स्विस बैंकों में भारतीयों की जमाराशि 2017 में 50 फीसदी बढ़कर 7000 करोड़ रु हो गई। यह वहां रखे गए संदिग्ध कालेधन पर भारत की कार्रवाई के बीच उसमें आ रही गिरावट में उलटफेर है। नीतीश कुमार की अगुवाई वाले जदयू का यह रुख इस क्षेत्रीय दल और भाजपा के बीच मतभेद का एक और संकेत है। 

मोदी सरकार ने किया चुनावी बांडों के चौथे चरण की बिक्री का ऐलान

जदयू नेता चाहते हैं कि 2013 में भाजपा के साथ संबंध टूटने से पहले बिहार में एनडीए में जदूय की जो हैसियत थी, वह हैसियत उसे दी जाए। उधर , भाजपा का मानना है कि राज्य में राजनीतिक समीकरण बदल गए हैं। साथ ही वह एनडीए का सबसे बड़ा दल है।

येचुरी बोले- पूंजी में बढ़ोतरी हैरानी की बात नहीं 

माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने बैंकों का कर्ज चुकाए बिना विदेश भाग गए कारोबारियों का हवाला देते हुए कहा है कि स्विस बैंकों में भारतीयों की पूंजी में 50 फीसदी का इजाफा होना कोई अचरज की बात नहीं है। येचुरी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस स्थिति के लिए जिम्मेदार ठहाराते हुए इसे स्विटजरलैंड में जमा भारतीय काला धन बताया। 

ICC ने भ्रष्टाचार पर नकेल कसने के लिए लॉन्च किया ऐप, जानें खास फीचर्स

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने उद्योग जगत द्वारा बैंकों के नहीं चुकाए गए लाखों करोड़ों रुपये के कर्ज को बट्टे खाते में डाल दिया और कर्ज लेने वाले कारोबारियों को विदेश भागने की छूट भी दे दी। येचुरी ने ट्वीट कर कहा ‘‘स्विस बैंक में भारतीयों की पूंजी में साल 2017 में 7000 करोड़ रुपये के साथ 50 फीसदी का इजाफा हुआ है। यह आंकड़ा चौंकाने वाला नहीं है।'

भाकपा नेता डी राजा ने मोदी सरकार से स्विस बैंकों में भारतीयों की राशि में इतनी ज्यादा मात्रा में इजाफे की वजह साफ करने की मांग की। राजा ने कहा ‘‘मोदी ने स्विस बैंकों में जमा कालेधन को भारत वापस लाने का वादा किया था, लेकिन वह अपना वादा पूरा कर पाते इसके उलट इस राशि में बढ़ोतरी हो गई। मोदी सरकार को यह बताना चाहिए कि आखिर यह कैसे हो गया।'

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.