Thursday, Sep 29, 2022
-->
mamata-initiative-regarding-presidential-election-congress-said-time-to-rise-above-differences

राष्ट्रपति चुनाव को लेकर ममता ने की पहल, कांग्रेस बोली- मतभेदों से ऊपर उठने का समय

  • Updated on 6/12/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कांग्रेस ने राष्ट्रपति चुनाव के संदर्भ में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की ओर से विपक्षी नेताओं की बैठक बुलाने की पहल किए जाने के बाद शनिवार को कहा कि यह आपसी मतभेदों से ऊपर उठने का समय है और एक ऐसे व्यक्ति को राष्ट्रपति चुना जाए जो संविधान और देश की संस्थाओं की रक्षा कर सके। 

राजभर बोले- सरकार अगर नूपुर और जिंदल को जेल भेज देती तो यूपी में नहीं होती हिंसक घटनाएं

  •  

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्षी नेताओं को पत्र लिखकर उनसे राष्ट्रीय राजधानी में 15 जून को प्रस्तावित बैठक में भाग लेने का अनुरोध किया है, ताकि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के उत्तराधिकारी के लिए 18 जुलाई को होने वाले चुनाव के वास्ते एक साझा रणनीति तैयार की जा सके। 

सोनिया गांधी अस्पताल में भर्ती, ईडी ने समाने 23 जून को होना है पेश

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक बयान में कहा कि पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने राष्ट्रपति चुनाव को लेकर राकांपा प्रमुख शरद पवार, टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी और विपक्षी दलों के कई अन्य नेताओं से बात की है तथा कोराना वायरस से संक्रमित होने के मद्देनजर उन्होंने इस बातचीत की जिम्मेदारी मल्लिकार्जुन खडग़े को दी है। 

दुनिया की नजरों में आ गया है मोदी सरकार का ‘हिंदुत्व का एजेंडा’ : माकपा 

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस की राय है कि देश को राष्ट्रपति के रूप में एक ऐसे व्यक्ति की जरूरत है जो संविधान एवं हमारी संस्थाओं की रक्षा कर सके जिन पर सत्तारूढ़ पार्टी हमला कर रही है। यह समय की मांग है। कांग्रेस ने कोई नाम नहीं सुझाया है, लेकिन यह हम सबकी जिम्मेदारी है कि ऐसे व्यक्ति को राष्ट्रपति चुना जाए जो खंडित सामाजिक तानेबाने को मरहम लगा सके और संविधान की रक्षा कर सके।’’ 

मुख्यमंत्री भगवंत मान का ऐलान - पंजाब की सरकारी लक्जरी बसें दिल्ली हवाई अड्डे तक जाएंगी

सुरजेवाला ने जोर देते हुए कहा, ‘‘यह देश और जनता की खातिर आपसी मतभेदों से ऊपर उठने का समय है। चर्चा खुले दिमाग और इसी भावना के साथ होनी चाहिए। हमारा मानना है कि कांग्रेस और अन्य राजनीतिक दलों को इस चर्चा को आगे बढ़ाना चाहिए।’’      

RBI के रेपो दर बढ़ाने के बाद बैंकों ने आवास, वाहन एवं व्यक्तिगत ऋणों को किया महंगा 


 

comments

.
.
.
.
.