Tuesday, Nov 30, 2021
-->
mamta attacks rahul said playing twittertwitter does not win the crown albsnt

ममता का राहुल पर वार, कहा- ट्विटर-ट्विटर खेलने से ताज हासिल नहीं होते, हकीकत से दूर हैं कांग्रेस

  • Updated on 10/28/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भले ही साल 2024 के लोकसभा चुनाव को तीन साल अभी बाकी हो लेकिन विपक्षी दलों ने अपने-अपने हिसाब से चुनावी तैयारी को लेकर सियासी बयानबाजी शुरु कर दी है। सबसे हैरत की बात है कि पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव में टीएमसी का डंका बजा चुकी ममता बनर्जी की महात्वाकांक्षा बढ़ गई है। उन्होंने अपने गोवा यात्रा में पार्टी के मुखपत्र के माध्यम से कांग्रेस पर ही निशाना साधा है। ममता ने कहा कि जब तक कांग्रेस मोदी सरकार का विरोध ट्विटर तक सीमित रखेगी तब तक मजबूत विपक्ष की बात करना बैमानी होगी।

जम्मू-कश्मीर: मिनी बस के अनियंत्रित होने से 10 लोगों की गई जान, पीएम मोदी ने जताया अफसोस

बता दें कि ममता की पार्टी टीएमसी इस बार गोवा विधानसभा चुनाव पर भी नजर गड़ाये हुए है। वहीं ममता का मानना है कि कांग्रेस की मुख्य विपक्ष की सीमित भूमिका को देखते हुए देश भर में पार्टी का विस्तार करके मोदी का विकल्प खुद को पेश करें। ममता ने बार-बार इशारा किया है कि देश के सभी प्रमुख राज्यों में टीएमसी चुनाव लड़ने को तैयार है। पश्चिम बंगाल की सीएम ने कांग्रेस के 20 अगस्त को बुलाये विपक्ष की बैठक के बाद कुछ भी सामूहिक स्तर पर पहल नहीं करने की तीखी आलोचना की है।

जब चन्नी-सिद्धू में है अनबन तो कैप्टन के सियासी चाल का तोड़ कैसे निकालेंगे राहुल?

मालूम हो कि बीते 20 अगस्त को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्षा सोनिया गांधी ने विपक्षी दलों की बैठक की थी। जिसमें मोदी सरकार के खिलाफ एकजुट होने की बात कही थी। जिसको लेकर ममता ने सोनिया पर सवाल खड़ा करके विपक्षी एकता की ही हवा निकाल दी है। हालांकि तृणमूल कांग्रेस ने साफ किया है कि कांग्रेस के साथ गठबंधन करने को पार्टी तैयार है। लेकिन जिस तरह से टीएमसी लगातार राहुल गांधी के बजाए ममता बनर्जी को साल 2024 लोकसभा चुनाव के लिये चेहरा बनाने की मांग कर रही है,उससे शायद ही कांग्रेस सहमत हो पायेगी।   

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.