Monday, Jan 21, 2019

अध्ययन: जो पुरुष बेटी के पिता होते हैं वो करते हैं महिलाओं का ज्यादा सम्मान

  • Updated on 12/18/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत और दुनिया में के कई देशों में महिलाओं के साथ किया जाना वाला भेदभाव किसी से छिपा नहीं है। हाल ही में किए गए एक अध्ययन में सामने आया है कि महिलाओं में भेदभाव करने का ज्यादा संभावना पुरुषों में होती है और वही पुरुष ऐसा करते हैं जो बेटी के पिता नहीं होते। 

एक अध्ययन में पाया गया है कि जो पुरुष बेटी के पिता होते हैं उनमें महिलाओं के साथ भेदभाव की पारंपरिक सोच होने की संभावना कम होती है। बेटी के स्कूल जाने की उम्र में पहुंचने तक यह संभावना और कम हो जाती है। ब्रिटेन में 1991 से 2012 के बीच के दो दशकों के एक सर्वेक्षण में कई माता पिता से बात की गई। 

13 वर्षीय भारतीय किशोर दुबई में बना सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट कंपनी का मालिक

उनके पूछा गया कि क्या वह पुरुषों के नौकरी करने और महिलाओं के सिर्फ घर संभालने की पारंपरिक सोच का समर्थन करते हैं। लंदन स्कूल ऑफ इकॉनमिक्स ऐंड पॉलिटिकल साइंस (एलएसई) के शोधार्थियों ने संतान के रूप में बेटी के जन्म के बाद महिलाओं और पुरुषों पर इसके प्रभाव का विश्लेषण किया।

शोधार्थियों ने पाया कि संतान के रूप में बेटी पाने वाले पिताओं की लैंगिक भूमिका के प्रति पारंपरिक सोच रखने की संभावना कम होती है। जब बेटी स्कूल जाने की उम्र तक पहुंचती है तो पिता में पारंपरिक सोच की संभावना और कम हो जाती है।

नीली आंखों वाली इस गुड़िया को देखकर अच्छे- अच्छों के छूट जाते हैं पसीने, जानिए क्या है खास

शोधार्थियों ने कहा कि वहीं दूसरी ओर, माताओं के पारंपरिक सोच रखने की संभावना शुरू से ही कम होती है, इसका बेटी होने से संबंध बहुत कम है। उसका कारण यह है कि महिलाएं पहले से ही पारंपरिक सोच का सामना स्वयं कर चुकी होती हैं।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.