Monday, Jun 27, 2022
-->
Manish Sisodia AAP said BJP did nothing for schools in Gujarat in 27 years rkdsnt

सिसोदिया बोले- BJP ने गुजरात में 27 वर्षों में स्कूलों के लिए कुछ नहीं किया

  • Updated on 4/11/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने सोमवार को गुजरात के भावनगर में दो सरकारी स्कूलों का दौरा कर दावा किया कि उनकी हालत खराब है और उनकी दीवारें जालों से ढकी हुई हैं तथा शौचालयों से बदबू आ रही है। भावनगर राज्य के शिक्षा मंत्री जीतू वघानी का गृहनगर है। गुजरात चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर निशाना साधते हुए आम आदमी पार्टी (आप) के नेता सिसोदिया ने ‘‘शिक्षा के दिल्ली मॉडल’’ को अपनाने की मांग की। उन्होंने कहा कि गुजरात में सत्ताधारी पार्टी ने पिछले 27 वर्षों से सत्ता में रहने के बावजूद सरकारी स्कूलों की स्थिति में सुधार करने के लिए कोई खास काम नहीं किया है। 

जेएनयू हिंसा : ABVP के अज्ञात कार्यकर्ताओं पर केस दर्ज, यूनिवर्सिटी ने दी चेतावनी

 

उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा ने इतनी खराब स्थिति में स्कूलों को छोड़कर देश के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया है। अहमदाबाद से 170 किलोमीटर दूर भावनगर में स्कूलों का दौरा करने के बाद यहां पत्रकारों से सिसोदिया ने कहा, ‘‘गैलरी से कक्षा तक, एक भी कोना जालों के बिना नहीं था। इन स्कूलों में अतिथि शिक्षकों को हर महीने नवीकृत किए जाने वाले वेतन पर नियुक्त किया जाता है।’’ 

उमा भारती ने ASI संरक्षित मंदिर में पूजा नहीं कर पाने पर अन्न त्यागने का किया फैसला 

उन्होंने कहा कि दोनों स्कूलों में शौचालयों की हालत इतनी खराब है कि वहां एक पल के लिए भी खड़ा होना नामुमकिन है। उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में बच्चों के पढऩे और एक महिला शिक्षक के पढ़ाने की उम्मीद करना मुश्किल है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘‘सरकारी स्कूलों की यह दुर्दशा देखकर बहुत दुख हुआ। हमें आजादी मिले 75 साल हो गए हैं। हम एक अच्छी शिक्षा नहीं दे सके। क्यों? अगर हर बच्चे को बेहतर शिक्षा नहीं मिलेगी तो भारत कैसे प्रगति करेगा।’’ 

अखिलेश यादव का भाजपा पर तंज, बोले- यूपी में अपराध की बुलेट ट्रेन दौड़ रही है

सिसोदिया ने कहा कि कुछ माता-पिता ने उन्हें बताया कि जीतू वघानी का परिवार एक निजी स्कूल-सह-कॉलेज बहुत बेहतर तरीके से चलाता है। उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘यह भाजपा की बहुत बड़ी विफलता है... या तो भाजपा की सरकारी स्कूलों की स्थिति में सुधार करने की मंशा नहीं है, या उसके मंत्री की मंशा सरकारी स्कूल को ठीक से चलाने की नहीं है।’’ गुजरात विधानसभा सत्र के दौरान वघानी के एक बयान का हवाला देते हुए सिसोदिया ने कहा कि 13,000 सरकारी स्कूलों में कंप्यूटर नहीं हैं, और 700 स्कूलों में प्रत्येक में केवल एक शिक्षक है। 

हिमाचल में नड्डा के बाद अनुराग ठाकुर ने AAP के खिलाफ खोला मोर्चा 

सिसोदिया ने कहा कि भाजपा ने दिल्ली में सरकारी स्कूलों के निरीक्षण के लिए अपने सांसदों को तैनात किया है, लेकिन उन्हें एक भी स्कूल नहीं मिला जहां वे कह सकें, ‘‘जाले में ढके, बिना पानी और शिक्षण सुविधाओं के इन स्कूलों को देखो।’’ केजरीवाल नीत ‘आप’ दिल्ली में शिक्षा क्षेत्र में आए बदलाव को दिखाने की कोशिश कर रही है और उसने गुजरात में इसी प्रकार का बदलाव करने का वादा किया है। वह खुद को राज्य में सत्तारूढ़ भाजपा और विपक्षी कांग्रेस दोनों के एक व्यवहार्य विकल्प के रूप में पेश कर गुजरात की सभी 182 विधानसभा सीट पर चुनाव लडऩे की इच्छुक है।

जेएनयू छात्रावास में झड़प पर सत्येंद्र जैन बोले- अमित शाह से पूछें सवाल, जिनके अधीन हैं दिल्ली पुलिस

comments

.
.
.
.
.