Saturday, Feb 27, 2021
-->
manish sisodia inspection labour department office bribery allegations kmbsnt

सिसोदिया ने किया श्रम कार्यालय का निरीक्षण, लापरवाह अधिकारियों पर कार्रवाई के निर्देश

  • Updated on 10/21/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने निर्माण श्रमिकों का पंजीयन युद्ध स्तर पर कराने का अभियान तेज कर दिया है। सिसोदिया ने मंगलवार सुबह पुष्प विहार स्थित जिला श्रम कार्यालय (Labour Office) का औचक निरीक्षण (surprise Inspection) किया। इस दौरान मिली खामियों पर नाराजगी जताते हुए सिसोदिया ने कहा कि पिछले दिनों दिए गए कई निर्देशों का पालन नहीं होना बेहद गंभीर बात है।

सिसोदिया ने अधिकारियों से कहा कि पंजीयन की ऐसी व्यवस्था बनाएं जिससे किसी गरीब मजदूर को ना पैसा देना पड़े ना धक्के खाने पड़े। सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली में 10 लाख निर्माण मजदूर होने का अनुमान है और इनमें से हर एक का पंजीयन करके सबको कल्याणकारी योजना का लाभ दिलाना हमारी प्राथमिकता है।

दिल्ली: अवैध कॉलोनियों में छिपा प्रदूषण का बड़ा कारण, निपटने के लिए निगम के पास कोई प्लान नहीं

डिप्टी सेक्रेटरी के खिलाफ कारण बताओ नोटिस
इसके लिए बोर्ड के अधिकारियों के अलावा श्रम विभाग तथा विभागों के अधिकारियों की भी मदद ली जाएगी। ऑचक निरीक्षण के दौरान सिसोदिया ने कार्यालय में अनुपस्थित डिप्टी सेक्रेटरी के खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी करने का निर्देश दिया।अधिकारियों को 24 घंटे में सभी मुद्दों को हल करने का निर्देश दिया।

बाढ़ से त्रस्त तेलंगाना को केजरीवाल सरकार देगी 15 करोड़ रुपये की मदद

समझी मजदूरों की परेशानी
कार्यालय इंस्पेक्शन के दौरान सिसोदिया ने इसमें विलंब के कारणों तथा कतारों में मौजूद श्रमिकों की परेशानियों को समझने का प्रयास किया। उनके साथ विभागीय सचिव विश्वास और निर्माण बोर्ड के सचिव सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे। सिसोदिया ने पुष्प विहार केंद्र पहुंचकर कतारों में खड़े मजदूरों से बात की और इस पूरे काम की प्रक्रिया की जांच की। 

दिल्ली में अब प्रदूषण रोकने के लिए मार्शल तैनात करेगी केजरीवाल सरकार

'दलालों के खिलाफ तुरंत हो एफआईआर'
सिसोदिया को मजदूरों ने बताया कि वह सुबह 4:00 बजे ही आकर कतारों में लगे हैं। इनमें पंजीयन के लिए आवेदन नवीनीकरण और दस्तावेजों के सत्यापन जैसे कार्यों के लिए आए मजदूर शामिल थे। सिसोदिया को यह भी जानकारी मिली कि मजदूरों को पंजीयन की प्रक्रिया की समुचित जानकारी नहीं होने के कारण दलालों और बिचौलियों का शिकार होना पड़ रहा है। विभिन्न गरीब बस्तियों में दलाल सक्रिय हैं जो पंजीयन और सत्यापन के नाम पर पैसे वसूल रहे हैं। 

सिसोदिया ने अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए कि पंजीयन की प्रक्रिया को आसान करते हुए इसकी पूरी जानकारी होल्डिंग्स पर दी जाए। उन्होंने कहा कि जो भी दलाल पकड़ा जाए उसके खिलाफ तत्काल प्राथमिकी दर्ज कराई जाए। 

comments

.
.
.
.
.