Wednesday, Aug 10, 2022
-->
manjeet-singh-youngest-armyman-who-died-in-kargil-war

कारगिल दिवस: युद्ध में शहीद हुए सबसे कम उम्र के इस जवान की कहानी नहीं जानते होंगे आप

  • Updated on 7/26/2018

सरहद पर खड़े रखवालों को

इस देश के पहरेदारों को

दिल से मेरा सलाम

दिल से मेरा सलाम

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सन् 1999 16 जुलाई... ये वो तारीक है जिससे देश का कोई भी व्यक्ति चाह कर भी नहीं भूला सकता। ये वो तारीक है जब हमारे वीर जवानों ने पाकिस्तान को धूल चटाकर तिरंगा लहराया था। कश्मीर के कारगिल में पाक समर्थित घुसपैठियों और पाकिस्तानी सेना घुसपैठ करने में कामयाब हो गई थी। जब भारतीय सेना को इसकी जानकारी हुई तो सेना ने ‘ऑपरेशन विजय’ का प्लान तैयार कर घुसपैठियों को खदेड़े को आतूर हो गये। साल 1999 के मई महीने में शुरू हुआ युद्ध दो महीने तक चला। इस दौरान देश के कई सिपहियों  ने अपनी जान की बलि दी।

Navodayatimes

आज कारगिल विजय दिवस  के मौके पर हम आपको एक ऐसे वीर सिपाही के बारे में बताने जा रहे है जो इस  युद्ध में सबसे कम उम्र में शहीद होने वाला जवान कहलाया था।

#KargilVijayDiwas: दो महीने चली इस महागाथा ने दिलाई कारगिल पर विजय

Navodayatimes

1999 में ऑपरेशन विजय के तहत करीब 18000 फीट की ऊचांई पर कारगिल में पाकिस्तान के साथ लड़ाई लड़ी गई थी। इस जंग में  527 जवान शहीद हुए थे। इन्हीं में से एक थे मनजीत सिंह जो कारगिल में शहीद होने वाले सबसे कम उम्र के जवान थे। 

Navodayatimes

मनजीत फरीदाबाद के बराड़ा गांव के रहने वाले थे। शहीद मनजीत सिंह के पिता गुरचरण सिंह एक किसान थे। मनजीत सिंह हरजीत सिंह और दलजीत सिंह तीनों भाईयों में से मनजीत की इच्छा सेना में भर्ती होकर देश सेवा करने की थी। गुरचरण सिंह ने उन्हें 1998 में रैजीमैंट अल्फआ कम्पनी में भर्ती करवा दिया था। 

मॉब लिंचिग: लोकतंत्र को भीड़तंत्र में बदलती सोशल मीडिया, क्या कानून लगा सकता है रोक

Navodayatimes

सेना में भर्ती होने के करीब डेढ़ साल बाद ही कारगिल युद्ध  हो गया। मनजीत सिंह की ड्यूटी कारगिल में लगा दी गई।7 जून 1999 में टाईगर हिल में दुश्मनों का डटकर सामना करते हुए मनजीत सिंह शहीद हो गए। उनकी मां का कहना है कि मनजीत सिंह को बड़े चाव से सेना में भर्ती करवाया गया था। लेकिन वो हमें इतना जल्दी छोड़कर चला जाएगा इस बात का हमें अंदाजा भी नहीं था। शहीद मनजीत  सिंह महज 17 वर्ष की आयु में सेना में भर्ती हो गए थे और महज 18 वर्ष की आयु में ही वो शहीद हो गए।        

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.