Monday, May 23, 2022
-->
manjinder singh sirsa joined bjp leave akali dal before punjab assembly elections rkdnst

पंजाब चुनाव से पहले अकाली दल को छोड़ BJP में शामिल हुए मनजिंदर सिंह सिरसा

  • Updated on 12/1/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। शिरोमणि अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा अब भाजपा के हो गए हैं। इसके साथ ही उन्होंने गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी से भी इस्तीफा दे दिया है। बता दें कि मनजिंदर सिंह सिरसा ने भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान, गजेंद्र सिंह शेखावत, दुष्यंत गौतम मौजूदगी में पार्टी की सस्दयता हासिल की।

सेंट्रल विस्टा: केंद्र ने कोर्ट को बताया - दिल्ली वक्फ की संपत्ति को कुछ नहीं हो रहा

 

इस मौके पर सिरसा ने कहा कि अमित शाह और जेपी नड्डा का शु्क्रिया करना चाहूंगा, जिन्होंने उन्हें पार्टी में शामिल करवाया। गौरतलब है कि पंजाब चुनाव से पहले सिरसा का भाजपा में आना काफी मायने रखता है। वैसे सिरसा के खिलाफ हाल ही में केंद्रीय एजेंसी ने जांच भी शुरू की है। 

ममता बोलीं- विपक्ष को दिशा दिखाने के लिए कमेटी गठित करने की राय कांग्रेस को दी थी

सिरसा के भाजपा में शमिल होने पर आम आदमी पार्टी ने सवाल उठाया है। पार्टी प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने अपने ट्वीट में लिख है, सिरसा पर गुरु की गुल्लक से चोरी करने के लिए हुई है FIR, और भापजा ने पार्टी में शामिल कर लिया।'

पिछले साल ही दिल्ली के पूर्व विधायक सिरसा के खिलाफ भ्रष्टाचार के एक मामले में दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने बड़ी कार्रवाई की थी। पुलिस ने सिरसा के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया था। गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी में हुए लाखो के फर्जी वाड़े के मामले में ये कार्रवाई की गई थी। दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ भ्रष्टाचार से जुड़े मामले की तफ्तीश कर रही है। 

एल्गार परिषद मामला : सुधा भारद्वाज को कोर्ट से मिली जमानत, 2018 से जेल में थीं बंद

 

इसके बाद हाई कोर्ट भी हरकत में आ गई थी। दिल्ली गुरुद्वारा कमिटी के अंदर भृष्टाचार के मामले में दिल्ली पुलिस की तरफ से देश छोड़ने के पाबंदी की नोटिस का सामना कर रहे सिरसा को एक और हाई कोर्ट से नोटिस मिला। मामला गुरूद्वरा कमिटी के खातों के ऑडिट रिपोर्ट को छुपाने से लेकर था। कोर्ट ने पूर्व विधायक से इस पूरे मामले में स्पस्टीकरण माँगा था।

केजरीवाल ने चुनावों से पहले पंजाबी में पंजाब की माताओं-बहनों से की अपील

इसके बाद सिरसा गुरुमुखी की परीक्षा में फेल हो गए। 17 सितम्बर को दिल्ली गुरुद्वारा चुनाव निदेशालय में हुई धार्मिक परीक्षा में मनजिंदर सिंह सिरसा गुरुमुखी पढऩे और लिखने में असफल रहे, जिसके चलते गुरुद्वारा चुनाव निदेशक ने सिरसा को अयोग्य घोषित करते हुए उनकी सदस्यता को खारिज कर दिया। निदेशक के इस आदेश के बाद सिरसा का कमेटी सदस्य बनना फिलहाल मुश्किल हो गया था। 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.