Sunday, Jul 12, 2020

Live Updates: Unlock 2- Day 11

Last Updated: Sat Jul 11 2020 03:20 PM

corona virus

Total Cases

823,471

Recovered

516,330

Deaths

22,152

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA238,461
  • TAMIL NADU114,978
  • NEW DELHI109,140
  • GUJARAT40,155
  • UTTAR PRADESH33,700
  • TELANGANA25,733
  • ANDHRA PRADESH25,422
  • KARNATAKA25,317
  • RAJASTHAN23,814
  • WEST BENGAL22,987
  • HARYANA19,736
  • MADHYA PRADESH15,284
  • BIHAR15,039
  • ASSAM11,737
  • ODISHA10,624
  • JAMMU & KASHMIR8,675
  • PUNJAB6,491
  • KERALA5,623
  • CHHATTISGARH3,305
  • UTTARAKHAND3,161
  • JHARKHAND2,854
  • GOA1,813
  • TRIPURA1,580
  • MANIPUR1,390
  • HIMACHAL PRADESH1,077
  • PUDUCHERRY1,011
  • LADAKH1,005
  • NAGALAND625
  • CHANDIGARH490
  • DADRA AND NAGAR HAVELI373
  • ARUNACHAL PRADESH270
  • DAMAN AND DIU207
  • MIZORAM197
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS141
  • SIKKIM125
  • MEGHALAYA88
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
manoj tiwari can resign bjp delhi unit chief jp nadda arvind kejriwal

अध्यक्ष पद से कटेगा मनोज तिवारी का पत्ता! BJP इस नेता पर लगा सकती है दांव

  • Updated on 3/19/2020

नई दिल्ली/प्रियंका। भारतीय जनता पार्टी (BJP) दिल्ली चुनावों में मिली हार के बाद दिल्ली पार्टी में नए बदलाव कर रही है। इसी के चलते बीजेपी दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी को पार्टी अध्यक्ष पद से जल्द हटाने जा रही है। हालांकि ये बदलाव सिर्फ दिल्ली में नहीं बल्कि तेलंगाना, झारखंड, तमिलनाडु और महाराष्ट्र में भी किए गए हैं। ये बदलाव पार्टी के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा के नेतृत्व में किए जा रहे हैं। 

बताया जा रहा है कि दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष बदलने के लिए सांसदों, विधायकों, मोर्चा प्रमुखों और अन्य पदाधिकारियों से उनकी राय मांगी गई थी। बता दें, दिल्ली बीजेपी प्रमुख मनोज तिवारी ने दिल्ली विधानसभा चुनावों में हार के बाद इस्तीफे की पेशकश की थी लेकिन पार्टी ने उन्हें अगला प्रमुख नियुक्त किए जाने तक पद पर बने रहने के लिए कह दिया था।

विपक्ष के हंगामे के बीच रंजन गोगोई ने ली राज्यसभा सांसद पद की शपथ

दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष की होगी सीधी नियुक्ति 
नए प्रदेश अध्यक्ष को लेकर पार्टी ये तय कर चुकी है कि अब एक ऐसे नेतृत्व की जरूरत है जो दिल्ली में वोटरों को लुभा सके। इसी को देखते हुए पार्टी ने दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष के लिए चुनाव नहीं बल्कि सीधी नियुक्ति करने की बात कही है। सूत्रों की माने तो इस बारे में दिल्ली बीजेपी के तमाम प्रमुख पदाधिकारियों और नेताओं के साथ वन टु वन मीटिंग करके उनका फीडबैक लिया गया है। राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा के निर्देश पर पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री मुरलीधर राव और महिला मोर्चे की राष्ट्रीय अध्यक्ष विजया राहटकर को विशेष रूप से इस काम की जिम्मेदारी सौंपी गई। इन्ही के नेतृत्व में कुछ नेताओं का इंटरव्यू भी लिया गया।

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सीएम योगी के 3 साल के कार्यकाल की तारीफ की

अध्यक्ष के लिए तय किए गए मानक  
बीजेपी दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष की नियुक्ति के लिए पार्टी की तरफ से कुछ मानक तय किये गए हैं जिनके आधार पर पार्टी अध्यक्ष को चुनकर लाएगी। बताया जा रहा है कि नए अध्यक्ष में प्रदेश में चल रही गुटबाजी रोकने की क्षमता हो। इसके साथ ही भ्रष्टाचार के आरोपों से मुक्त और पार्टी का कट्टर कार्यकर्ता होने का गुण और संगठन में लोकप्रिय बने रहने की क्षमता हो। नए अध्यक्ष में आम जनता से आसानी से जुड़ने वाला हो स्वभाव हो ताकि आम आदमी उन तक सीधे पहुंच सके। साथ ही, विपक्ष से निपटने में सक्षमता रखता हो और सबसे युवा वर्ग का प्रतिनिधित्व करता हो।

कोरोना वायरस के मद्देनजर एक महीने के लिए 'आइसोलेशन' में जाएगी भाजपा!

ये नेता हैं अध्यक्ष पद की दौड़ में शामिल 
दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए कई नाम पार्टी के सामने हैं जिन पर मानकों के आधार पर मोहर लगाई जा सकती है। इन नामों में अनिल जैन, पवन शर्मा, आशीष सूद और महेश गिरि जैसे वरिष्ठ नेता शामिल हैं। इसके अलावा कुछ नेताओं ने खुद से भी इस पद पर आने के लिए पहल की है जिनमें परवेश साहिब सिंह, गौतम गंभीर, मीनाक्षी लेखी, विजय गोयल और रमेश बिदुरी भी शामिल हैं।

भाजपा अध्यक्ष की नई टीम में पूर्वांचल से सिर्फ एक चेहरा

मनोज तिवारी को हटाने की वजह 
वैसे तो मनोज तिवारी के नेतृत्व में बीजेपी ने 2017 के एमसीडी चुनाव और 2019 के लोकसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन किया था, लेकिन दिल्ली विधानसभा चुनाव में उनके रहते बीजेपी को बड़ी हार का सामना करना पड़ा। इसके बाद से ही बीजेपी आलाकमान दिल्ली बीजेपी की पूरी टीम बदलना चाहती थी। इस बारे में पार्टी का मानना था कि कम से कम 15-20 सीट ऐसी थीं, जिसे बीजेपी आसानी से जीत सकती थी। लेकिन, बाहरी उम्मीदवार उतारने के फैसले के कारण बीजेपी के स्थानीय कार्यकर्ताओं का साथ नहीं मिला। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.