Wednesday, Oct 16, 2019
manoj tiwari told how long will bjp modi government regularize delhi unauthorized colonies

मनोज तिवारी ने बताया- मोदी सरकार कितने समय में करेगी अनधिकृत कॉलोनियों का नियमितीकरण

  • Updated on 9/18/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने बुधवार को कहा कि उनकी पार्टी दिल्ली की अनधिकृत कॉलोनियों का नियमितीकरण छह महीने में सुनिश्चित करेगी।  उन्होंने कहा कि भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने दिल्ली इकाई के नेताओं को अनधिकृत कॉलोनियों में जाकर सर्वे करने और वहां के निवासियों की प्रतिक्रिया लेने का निर्देश दिया है। 

महाराष्ट्र में मतपत्रों के इस्तेमाल पर कांग्रेस ने चुनाव आयोग से लगाई गुहार

तिवारी ने कहा, ‘‘ सभी अनधिकृत कॉलोनियां आज से छह महीने के भीतर नियमित की जाएंगी। दिल्ली भाजपा के नेता 22 सितंबर से 22 विधानसभा क्षेत्र में फैली अनधिकृत कॉलोनियों का दौरा कर इनमें रहने वाले लोगों की राय लेंगे एवं पांच साल तक सत्ता में रहने के बावजूद अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने में केजरीवाल सरकार की नाकामी को उजागर करेंगे। 

कश्मीर में LOC पर पाए मोर्टार के 9 गोले किए गए निष्क्रिय

अनधिकृत कॉलोनियों का नियमितीकरण दिल्ली में बड़ा चुनावी मुद्दा है। लोकसभा चुनाव में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर आरोप लगाया था कि वह इन्हें ध्वस्त करने की योजना बना रही है। तिवारी ने कहा कि अगर दिल्ली सरकार इस मुद्दे पर प्रतिबद्ध होती तो अनधिकृत कॉलोनियां को कुछ महीने में नियमित किया जा सकता था। 

SC-ST कानून पर पुनर्विचार याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला सुरक्षित

उन्होंने कहा, ‘‘ अरविंद केजरीवाल ने घोषणा की थी कि जल्द अनधिकृत कॉलोनियों में संपत्ति की रजिस्ट्री शुरू हो जाएगी लेकिन दो महीने बीत चुके हैं, ऐसे में मुख्यमंत्री को बताना चाहिए कि दो महीने में उन्होंने क्या किया? जुलाई महीने में केजरीवाल ने दावा किया था कि जल्द ही दिल्ली की अनधिकृत कॉलोनियों में रहने वाले लोगों को संपत्ति पर मालिकाना हक मिलेगा और जोर देकर कहा था कि केंद्र नियमितीकरण के उसके प्रस्ताव पर सहमत है। 

कोर्ट में शिवकुमार बोले- आतंकी नहीं हूं, लगातार हिरासत में रखने का तुक नहीं

तिवारी ने कहा कि दिल्ली के भाजपा नेता आगामी महीनों में अनधिकृत कॉलोनियों का दौरा करेंगे और शहर की मलिन बस्तियों के विकास का मुद्दा उठाएंगे। उल्लेखनीय है कि दिल्ली में 1,797 अनधिकृत कॉलोनी हैं जिनमें लाखों लोग रहते हैं और वर्षों से नियमितीकरण का इंतजार कर रहे हैं। 

आयोध्या विवाद में सुनवाई की सुप्रीम कोर्ट ने तय की समय-सीमा

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.