Monday, May 16, 2022
-->
many thoughts shared by pm in mann ki baat special discussion on danger from plastic and ecigarette

मन की बात में पीएम ने साझा किये अनेक विचार, प्लास्टिक और ई-सिगरेट से खतरे पर की विशेष चर्चा

  • Updated on 9/29/2019

नई दिल्ली/कुमार आलोक भास्कर। पीएम नरेंद्र मोदी (narendra modi) आज मन की बात के माध्यम से देशवासियों के सामने एक बार फिर रुबरु हुए। उन्होंने आज ई-सिगरेट से नुकसान के बारे में विस्तार से युवा पीढ़ी को बताया है। इसके अलावा पीएम ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 150 वीं जयंती के अवसर पर 2 अक्टूबर से प्लास्टिक के उपयोग नहीं करने को लेकर भी याद दिलाया।   

बाढ़ के सामने बेबस नीतीश हुआ पानी-पानी, पटना की सड़कों ने खोली सुशासन बाबू की पोल

त्योहारों में अतिरिक्त भोजन को जरुरतमंदों को देने की अपील
पीएम ने आज बताया कि क्यों उनकी सरकार ने ई-सिगरेट को प्रतिबंध लगा दिया। इसके अलावा उन्होंने प्लास्टिक ने आखिर किस तरह से पर्यावरण को नुकसान पहुंचा दिया है,इस पर भी विस्तार से अपनी बात रखी है। नरेंद्र मोदी ने आगामी त्योहार की अग्रिम बधाई देते हुए देशवासियों का ध्यान इस तरफ खींचा कि हमें अतिरिक्त भोजन और मिठाईयों को फेंकना नहीं चाहिये बल्कि जरुरतमंद लोगों तक पहुंचा देना चाहिये।

बसपा ने हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिये उतारे 41 उम्मीदवार 

गुमनाम एनजीओं के कार्यों को सराहा

उन्होंने कहा कि आज भी हमारे देश में दो तरह के लोग रहते है। एक जिनके आलमारी कपड़ों से भरे होते है तो उनके फ्रिज मिठाईयों से ठूंसे रहते है। तो दूसरी तरफ वैसे लोगों की भी अच्छी खासी तादाद है जो तन ढ़ंकने के लिये तरसते रहते है तो एक वक्त के भोजन के आस में ताकते रहते है। पीएम ने कहा कि हमें जरुरत मंदों के लिये काम करने वाले संस्था को सहयोग करना चाहिये। ऐसे अनेक गुमनाम NGO है जो दिन-रात लोगों की सेवा करते है। 

तेजप्रताप की पत्नी ऐश्वर्या ने रावड़ी और मीसा पर लगाया उन्हें घर से निकालने का आरोप

जब लता मंगेशकर को दी बधाई...
इसके अलावा पीएम नरेंद्र मोदी ने अमेरिका जाने से पहले लता मंगेशकर को जन्मदिन की अग्रिम बधाई देते हुए उनसे हुए दिलचस्प बातचीत को भी देशवासियों से साझा किया है। वाकई नरेंद्र मोदी पीएम पद पर रहते हुए जिस छोटी-छोटी बातों का भी ध्यान रखते है उससे जरुर युवा पीढ़ी को प्रेरणा मिलती है। पीएम का यह अंदाज ही उन्हें अपने समकालीन नेताओं से अलग खड़ा करता है। 
 

तेजप्रताप की पत्नी ऐश्वर्या ने रावड़ी और मीसा पर लगाया उन्हें घर से निकालने का आरोप

पीएम ने 2014 में शुरु की थी मन की बात
हालांकि यह भी सही है कि जब 2 अक्टूबर 2014 में पीएम नरेंद्र मोदी ने मन की बात कार्यक्रम की शुरुआत की तो उस समय विपक्षी दलों ने समय-समय पर आलोचना की थी। लेकिन सबने देखा कि आखिर कैसे पीएम ने अपने इस कार्यक्रम से एक बार फिर रेडियो को जीवंत कर दिया। यहीं नहीं उन्होंने इस कार्यक्रम को टू वे बनाने की बहुत हद तक कोशिश भी की है। जिसमें जनता के सुझाव और दूर-सुदूर बैठे लोगों के साथ खूबसूरती से संवाद भी स्थापित किया है। जिसकी जितनी तारिफ की जाए उतनी कम है।           

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.