Sunday, Jan 23, 2022
-->
marigold flowers and ashoka leaves demand in festival of diwali 2020 rkdsnt

दीवाली पर फूलों की मांग बढने से खिले फूल व्यवसायियों के चेहरे

  • Updated on 11/13/2020


नई दिल्ली/नवोदय टाइम्स (अनामिका सिंह)। दीवाली के त्यौहार में बंदनवार का खासा महत्व है वो भी गेंदे के फूलोें व अशोक के पत्तों से। यही वजह है कि दीवाली के दिन फूलों की मांग काफी बढ जाती है और दामों में भी उसी प्रकार से उछाल भी आता है लेकिन हर साल के मुकाबले साल 2020 की दीवाली कुछ ज्यादा ही पॉकेट पर असर डाल रही है। इस साल दीवाली पर फूलों की मांग व आपूर्ति अधिक होने की वजह से फूलों के दामों में भी तेजी आई है लेकिन इससे फूल व्यवसायियों के चेहरे खिल उठे हैं और गाजीपुर फूल मंडी की रौनक वापस के लौट आई है। 

उत्तराखंड: लाखी राम जोशी भाजपा से निलंबित, CM के खिलाफ पीएम को लिखा था खत


बता दें कि हर साल दिल्ली की थोक फूलों की मंडी गाजीपुर में दीवाली पर्व पर कोलकत्ता के गेंदा फूल की पूरी धाक रहा करती है जो इस साल भी बरकरार है। धनतेरस से पहले ही करीब 4 लाख किलो गेंदा बिक चुका है। गाजीपुर फूल मंडी विपणन समिति के चेयरमैन विजय सिंह सिसोदिया ने बताया कि गुरूवार को दर्ज किया गया रिकार्ड शुक्रवार देर रात तक टूट सकता है क्योंकि फूलों की मांग को देखते हुए 24 घंटे मंडी को खोले जाने का निश्चय किया गया है।

अर्जुन रामपाल से NCP कर रही पूछताछ, अभिनेता का विदेशी दोस्त गिरफ्तार

वहीं शनिवार का दिन फूल मंडी के लिए कुछ खास हो सकता है। उन्होंने बताया कि पिछले साल जहां गाजीपुर में गेंदे के फूल 40 से 60 रूपए प्रतिकिलो बिक रहे थे वहीं इस साल शुक्रवार को 40 से 80 रूपए प्रतिकिलो हो गया। वहीं कमल का एक फूल का दाम 30 से 80 तक है। जबकि गुलाब के फूल की कौडी का दाम 500 रूपए की 20 माला है व गुलाब के खुले फूल 70 से 80 रूपए प्रतिकिलो है। इसके अलावा रजनीगंधा, ट्यूलिप, डंडी वाला गुलाब फूल व चमेली के फूलों को भी लोग खरीद रहे हैं। 

सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ टिप्पणी पर अडिग हैं  हास्य कलाकार कुणाल कामरा

फूलों से भूला रहे हैं लोग कोरोना का डर
सिसोदिया का कहना है कि पिछले कई सालों के आंकडों के मुकाबले इस साल फूलों की डिमांड काफी अधिक है जिसे देखकर लगता है कि लोग कोरोना का डर भूलाने के लिए दीवाली के त्यौहार को काफी धूमधाम से मनाना चाहते हैं।

खुदरा दाम आसमान पर
जहां थोक फूल मंडी गाजीपुर में फूलों के दाम काफी स्थिर हैं, वहीं खुदरा बाजार में दाम आसमान छू रहे हैं। गेंदे की माला जोकि अमूमन 10 से 15 रूपए में बिकती है वो 20 रूपए में बिक रही है जबकि कमल का एक फूल 100 से 150 रूपए का बेचा जा रहा है। 

कृत्रिम फूलों की भी डिमांड बढी
हर साल की तरह कागज, प्लास्टिक व बांस से बने कृत्रिम फूलों की भी डिमांड काफी है। दरअसल ये फूल बाद में भी घरों को सजाने के काम आते हैं इसलिए लोग इन्हें भी काफी खरीद रहे हैं जिनके बदनवार का दाम 40 से लेकर 500 रूपए तक है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.