Wednesday, Jan 26, 2022
-->
mask able to prevent infection to a great extent musrnt

ना पालें भ्रांति : मास्क संक्रमण रोकने में काफी हद तक सक्षम

  • Updated on 5/17/2021

देहरादून/ खुर्रम शम्सी। कोरोना संक्रमण से बचने के लिए एक्सपर्ट्स मास्क को बेहद उपयोगी बता रहे है। सरकार की गाइडलाइन, एसओपी में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ “मास्क है जरूरी” की अपील बार- बार की जा रही है। वहीं, सोशल मीडिया में कई ऐसे संदेश भी वायरल है जो लोगों को भ्रामक कर रहे हैं। ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड से जुड़े ऐसे ही एक वायरल मैसेज को उत्तराखंड पुलिस (साइबर क्राइम पुलिस) ने फेक बताते हुए लोगों को जागरुक रहने के अपील की। एक्सपर्ट्स ने भी इस पर अपनी राय रखते हुए मास्क को संक्रमण से बचाव के लिए बेहद जरूरी बताया है।

सोशल मीडिया में मैसेज वायरल है। जिसमें दावा किया जा रहा है कि लंबे समय तक मास्क के उपयोग से शरीर में कार्बन डाइऑक्साइड की अधिकता और ऑक्सीजन की कमी हो रही है। वायरल मैसेज को उत्तराखंड पुलिस ने फेक बताया। पुलिस ने लोगों को जागरूक करते हुए कहा कि इस तरह का दावा फर्जी है। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए सही तरीके से मास्क जरूर लगाएं।

स्वास्थ्य विशेषज्ञ की राय
सांस लेते समय, बातचीत करते हुए, छींकते है या खांसते हैं तो तरल कण हवा में उड़ते हैं। जिन्हें एरोसोल के रूप में वर्गीकृत किया गया है। इन तरल कणों पर सार्स-कोव-2 उनके व्यवहार और आकार को निर्धारित करता है। संक्रमण की वजह से बूंदें हवा, जमीन के माध्यम से किसी व्यक्ति की आंख, नाक, मुंह में जा सकता हैं। एरोसोल हवा में सिगरेट के धुएं की तरह बिना रुके कमरे में फैल कर घंटों तैर सकता है। एक अंतरराष्ट्रीय शोध दल का अनुमान है कि मास्क पहनने वालों की सुरक्षा में सर्जिकल और कपड़े के मास्क 67 प्रतिशत प्रभावी हैं।

एक स्टडी के मुताबिक- डबल मास्किंग पर सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने स्टडी की। तीन तरह के मास्किंग मेथड लिए। एक समूह को केवल कपड़े का मास्क पहनाया। दूसरे में सर्जिकल मास्क और तीसरे तरीके में सर्जिकल मास्क पर कपड़े का मास्क पहना गया। शोधार्थियों ने पाया कि डबल मास्क में हवा 85.4 फीसदी तक फिल्टर हो जाता है। सर्जिकल मास्क पहनने पर 56.1 फीसदी। सिर्फ कपड़े का मास्क पहनने पर ये घटकर 51.4 फीसदी रह जाती है। साथ ही कहा है कि भीड़ भाड़ वाले सार्वजनिक स्थानों, पब्लिक ट्रांसपोर्ट, बाजार, अस्पताल में डबल मास्किंग जरूरी है। जहां ज्यादा भीड़ ना हो, वहां सिंगल मास्क से काम चल सकता है। कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना न भूलें। मास्क पूरी तरह से कोरोना महामारी को रोकने में सक्षम नहीं हैं। सामाजिक दूरी बनाए रखना अहम है।

डॉक्टर सबा खान, एचओडी इमरजेंसी एंड क्रिटिकल डिपार्टमेंट स्टेट गवर्नमेंट मेडिकल यूनिवर्सिटी ऑफ कीव यूरोप

मेडिकल अथॉरिटी की राय को ही हमेशा फोलो करना चाहिए। देखा जा रहा है कि कई लोग किसी साइंस और रिसर्च पर नहीं बल्कि अपनी व्यक्तिगत राय सोशल मीडिया में डाल देते है। रिसर्च के आधार पर ही गाइडलाइन जारी की जाती है। गलत सूचनाओं, भ्रामक संदेश, अफवाह, का प्रचार प्रसार करना अपराध है।
अजय सिंह, एसएसपी एसटीएफ।   

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.