Sunday, Feb 28, 2021
-->
mayawati attack modi government for increasing prices of petrol and diesel pragnt

पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम को लेकर बरसीं मायावती, कहा- जनता को सताना ठीक नहीं

  • Updated on 2/23/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश में पेट्रोल-डीजल (Petrol-Diesel) और रसोई गैस (Gas) के लगातार बढ़ते दामों को लेकर विपक्ष लगातार मोदी सरकार पर हमलावर हैं। ईंधन की बढ़ती कीमत को लेकर बहुजन समाज पार्टी (BSP) की प्रमुख मायावती (Mayawati) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार (Central Government) पर निशाना साधते हुए कहा कि केंद्र व राज्य सरकारें पेट्रोल, डीजल आदि पर टैक्स की लगातार मनमानी वृद्धि करके जनता की जेब पर जो भारी बोझ हर दिन डाल रही हैं उसे तत्काल रोका जाना बहुत ही जरूरी है।

दुनिया के अर्थव्यवस्थाओं में सुधार से बढ़ा कच्चे तेल की खपत, कीमत में 20% की हो सकती है वृद्धि

मायावती ने BJP सरकार पर साधा निशाना
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) की केंद्र व राज्य सरकारों पर निशाना साधते हुए कहा है कि महंगाई से त्रस्त जनता को सताना सर्वथा अनुचित है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'देश में पेट्रोल, डीजल व रसोई गैस जैसी जरूरी वस्तुओं की कीमतों में अनावश्यक ही अनवरत वृद्धि करके कोरोना प्रकोप, बेरोजगारी व महंगाई आदि से त्रस्त जनता को सताना सर्वथा गलत व अनुचित।' मायावती ने कहा, 'इस जानलेवा कर वृद्धि के माध्यम से जनकल्याण के लिए धन जुटाए जाने का सरकार का तर्क कतई उचित नहीं।'

दिल्ली में फिर बढ़े पेट्रोल डीजल के दाम, जानें आज क्या है कीमत

जनता की जेब पर पड़ रहे बोझ को रोकना जरूरी
बीएसपी सुप्रीमो ने अपने अन्य ट्वीट में लिखा, 'केन्द्र व राज्य सरकारें अगर पेट्रोल, डीजल आदि पर कर की लगातार मनमानी वृद्धि करके जनता की जेब पर जो भारी बोझ हर दिन डाल रही हैं उसे तत्काल रोका जाना बहुत ही जरूरी है। वास्तव में यही सरकार का देश की करोड़ों गरीब, मेहनतकश जनता व मध्यम वर्ग पर बड़ा एहसान व भारी जनकल्याण होगा।'

पुडुचेरी में सरकार गिरने के बाद राजस्थान में हुई हलचल, कांग्रेस-बीजेपी ने लगाए गंभीर आरोप

अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतों में उछाल
गौरतलब है कि देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतें ऐतिहासिक स्तर पर पहुंच गई हैं। ज्यादातर राज्यों में पेट्रोल की कीमत पहली बार 100 रुपए प्रति लीटर के पार हो गई है। आने वाले दिनों में भी कीमत घटने की संभावना नहीं है, क्योंकि इंटरनेशनल ऑयल मार्केट में कच्चे तेल की कीमत बढ़ेगी। अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतों में उछाल आने के बाद घरेलू बाजार में भी कीमतों पर असर पड़ा है। गौरतलब है कि भारत अपनी तेल संबंधी 85 प्रतिशत जरूरतों को पूरा करने के लिए आयात पर निर्भर है। अमेरिका में ऊर्जा संकट के चलते इस सप्ताह ब्रेंट तेल की कीमत 65 डॉलर प्रति बैरल के स्तर को पार कर गई थी।

अंतरराष्ट्रीय मार्केट में कच्चे तेल की महंगाई को लेकर सरकार भले ही दुहाई दे रही है, लेकिन हकीकत यह है कि हम 29.34 रुपये लीटर वाले पेट्रोल की कीमत 88 रुपये से अधिक चुका रहे हैं।

Sensex: शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स उपर चढा, निफ्टी 14,700 अंक के पार

दिल्ली में फिर बढ़े पेट्रोल डीजल के दाम
बता दें कि राजधानी दिल्ली में तेल के दाम आसमान छूने लगे हैं। पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमत से आम आदमी के बजट पर खासा असर पड़ रहा है। आज एक बार फिर से राजधानी में तेल के दामों में बढ़ोतरी हुई है। दिल्ली में पेट्रोल और डीजल की कीमतें क्रमश 90.83 रुपये प्रति लीटर (25 पैसे की वृद्धि) और 81.32 रुपये प्रति लीटर (35 पैसे की वृद्धि) पर हैं।

राष्ट्रीय गाय आयोग ने किया दावा , गोबर से बनेगी CNG गैस, पेट्रोल-डीजल से होगी सस्ती

जानें पेट्रोल डीजल में कितनी लगती है एक्साइज ड्यूटी
वहीं डीजल की बात करें तो इसका बेस प्राइस दिल्ली में 1 फरवरी को केवल 30.55 रुपये था, जबकि इस दिन मार्केट में यह 76.48 रुपये लीटर बिक रहा था। दरअसल भारत में डीजल और पेट्रोल पर केंद्र सरकार जहां एक्साइज ड्यूटी के रूप में हर लीटर पर 32 रुपये से अधिक वसूल ती है, तो राज्य सरकारें वैट और उपकर (सैस) लगाकर लोगों की जेब से अपना खजाना भर रही है।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

comments

.
.
.
.
.