Monday, Jan 21, 2019

मायावती बोलीं- सामान्य वर्ग के आरक्षण का फैसला स्वागतयोग्य, लेकिन.....

  • Updated on 1/8/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बसपा अध्यक्ष मायावती ने आॢथक रूप से कमजोर सामान्य वर्ग के लोगों को आरक्षण देने के मोदी सरकार के फैसले का स्वागत करते हुये इसे देर से उठाया गया कदम किंतु एक चुनावी स्टंट बताया है।

तबादले के मारे CBI अधिकारियों को नहीं मिली सुप्रीम कोर्ट से राहत

मायावती की ओर से मंगलवार को जारी बयान में कहा गया है कि देश में गरीब सवर्णों को भी आरक्षण की सुविधा देने की बसपा की वर्षों से लंबित मांग को आधे अधूरे मन और अपरिपक्व तरीके से स्वीकार किये जाने के बावजूद वह इसका स्वागत करती हैं। 

AAP बोली- फैसले से साबित हुआ कि राफेल मुद्दे पर वर्मा को पद से हटाया

हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि अगर सरकार यह फैसला पहले करती तो बेहतर होता। बसपा अध्सक्ष ने कहा च्च्लोकसभा चुनाव से पहले लिया गया यह फैसला हमें सही नीयत से लिया गया फैसला नहीं बल्कि चुनावी स्टंट लगता है, राजनीतिक छलावा लगता है।’’ उन्होंने कहा कि अगर भाजपा अपना कार्यकाल $खत्म होने से ठीक पहले नहीं बल्कि और पहले यह फैसला करती तो अच्छा होता ।

अयोध्या भूमि विवाद मामले की सुनवाई के लिए SC ने गठित की 5 सदस्यीय पीठ

बता दें कि सामान्य वर्ग के गऱीबों को दस प्रतिशत आरक्षण देने के मोदी सरकार के फैसले को सोमवार को मंत्रिमंडल की मंकाूरी मिलने के बाद इसे अमल में लाने के लिये सरकार ने मंगलवार को संविधान संशोधन विधेयक लोक सभा में पेश कर दिया। 

वाड्रा के ‘प्रतिनिधि’ के खिलाफ ईडी ने बताई वॉरंट जारी करने की जरूरत

मायावती ने अनुसूचित जाति, जनजाति और पिछड़े वर्ग के लोगों को मिल रहे आरक्षण की पुरानी व्यवस्था की समीक्षा की जरूरत पर बल देते हुये कहा कि इन वर्गों की बढ़ी हुयी आबादी के हिसाब से इन्हें समुचित आरक्षण देने की सख्त जरूरत है।  

निजी क्षेत्र में आरक्षण पर भी कदम उठाए मोदी सरकार : पासवान

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.