Sunday, Mar 24, 2019

मायावती का कांग्रेस के साथ गठबंधन से इंकार, खटाई में पड़ा महागठबंधन

  • Updated on 3/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। लोकसभा चुनाव में भाजपा को टक्कर देने के लिए विपक्षी दलों के महागठबंधन की संभावनाओं को झटका लगा है। बसपा ने मंगलवार को साफ कर दिया कि वह 11 अप्रैल से शुरू हो रहे चुनाव में कांग्रेस के साथ किसी भी राज्य में गठबंधन नहीं करेगी। मायावती ने एक बयान में कहा, 'ये बात पुन: स्पष्ट की जा रही है कि बहुजन समाज पार्टी किसी भी राज्य में कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करेगी।'

राकेश अस्थाना को लेकर क्रिश्चियन मिशेल ने अदालत में किया बड़ा दावा

बसपा सुप्रीमो की टिप्पणी ऐसे दिन आयी, जब कांग्रेस की शीर्ष नीति निर्धारक इकाई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक अहमदाबाद में चल रही है। सपा के साथ उत्तर प्रदेश में चुनाव पूर्व गठबंधन का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि बसपा व सपा का गठबंधन दोनों ओर से परस्पर सम्मान व पूरी नेक नियति के साथ काम कर रहा है। यह ‘परफेक्ट एलायन्स’ माना जा रहा है जो सामाजिक परिवर्तन की जरूरतों को पूरा करता है तथा भाजपा को पराजित करने की क्षमता भी रखता है और देशहित में यह आज की आवश्यकता है । 

प्रियंका गांधी ने अपने पहले चुनावी भाषण में मोदी सरकार को लिया आड़े हाथ

इस बीच, आयकर विभाग ने मंगलवार को मायावती के पूर्व सचिव और सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी नेतराम के दिल्ली और लखनऊ परिसरों में छापा मारकर तलाशी ली। यह छापेमारी कथित कर चोरी के मामले में की गई है। वर्ष 1979 बैच के उत्तर प्रदेश काडर के अधिकारी नेतराम ने मायावती के मुख्यमंत्री काल में कई शीर्ष पदों पर काम किया। नेतराम वर्ष 2002-03 में मायावती के सचिव भी रहे। 

केजरीवाल ने चुनावी तैयारियों को लेकर AAP नेताओं के साथ कसी कमर

दरअसल, सपा-बसपा ने हाल ही में उत्तर प्रदेश में गठजोड़ किया है। कांग्रेस को इससे बाहर रखा गया, हालांकि सपा-बसपा ने तय किया कि वे रायबरेली और अमेठी से अपने उम्मीदवार नहीं उतारेंगे। अमेठी से इस समय कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और रायबरेली से उनकी मां सोनिया गांधी लोकसभा सांसद हैं। प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों में से सपा 37 पर और बसपा 38 पर चुनाव लडेगी । तीन सीटें अजित सिंह के नेतृत्व वाले रालोद के लिए छोडी गयी हैं । 

शरद पवार के चुनाव नहीं लड़ने पर फडणवीस ने कसा करारा तंज

बसपा पश्चिमी उत्तर प्रदेश की सहारनपुर, बिजनौर, नगीना, अमरोहा, मेरठ, गौतमबुद्ध नगर, बुलंदशहर, अलीगढ, आगरा और फतेहपुर सीटों पर प्रत्याशी उतार रही है।     वह आंवला, शाहजहांपुर, धौरहडा, सीतापुर, मिश्रिख, मोहनलालगंज, सुल्तानपुर, प्रतापगढ, फर्रूखाबाद, अकबरपुर, जालौन, हमीरपुर, फतेहपुर, आंबेडकरनगर, कैसरगंज, श्रावस्ती, डुमरियागंज, बस्ती, संत कबीर नगर, देवरिया, बांसगांव, लालगंज, घोसी, सलेमपुर, जौनपुर, मछलीशहर, गाजीपुर और भदोही से भी उम्मीदवार उतारेगी। 

अंबानी की कंपनी के कर्जदाताओं को अपीलीय न्यायाधिकरण ने लगाई फटकार

उत्तर प्रदेश को छोड़ अन्य विभिन्न राज्यों के पार्टी नेताओं को नयी दिल्ली में संबोधित करते हुए मायावती ने कहा कि बसपा से चुनावी गठबंधन के लिये कई पाॢटयाँ काफी आतुर हैं, लेकिन थोड़े से चुनावी लाभ के लिये हमें ऐसा कोई काम नहीं करना है जो पार्टी मूवमेन्ट के हित में बेहतर नहीं हैं ।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.