Monday, Apr 12, 2021
-->
mayawati expresses concern over rising dalit oppression in up albsnt

दलित उत्पीड़न पर UP सरकार की सख्ती से मायावती खुश, कहा- देर आए दुरुस्त आए

  • Updated on 6/13/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उत्तरप्रदेश (Uttarpradesh) के आजमगढ़ में दलितों के साथ हुए उत्पीड़न पर उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा की सख्त कार्रवाई से खुश बसपा नेता मायावती ने कहा कि भले ही प्रशासन ने देर से काम किया है मगर सही किया है । उन्होंने एक के बाद एक ट्वीट करते हुए योगी सरकार को बधाई दी। साथ ही उन्होंने सरकार को समय से कार्रवाई करने की सलाह भी दी। 

'जितनी भी निन्दा की जाये, वह कम' 
मायावती ने अपने पहले ट्वीट में लिखा कि 'यू.पी में चाहे आजमगढ़, कानपुर या अन्य किसी भी जिले में खासकर दलित बहन-बेटी के साथ हुये उत्पीड़न का मामला हो या फिर अन्य किसी भी जाति व धर्म की बहन-बेटी के साथ हुए उत्पीड़न का मामला हो, उसकी जितनी भी निन्दा की जाये, वह कम है।'

'सख्त कानूनी कार्रवाई होनी चहिये'
उन्होंने अपने अगले ट्वीट में लिखा कि साथ ही, चाहे इसके दोषी किसी भी धर्म, जाति व पार्टी के बड़े से बड़े नेता व कितने भी प्रभावशाली व्यक्ति क्यों ना हो, उनके विरूद्व तुरन्त व सख्त कानूनी कार्रवाई होनी चहिये। बी.एस.पी का यह कहना व सलाह भी है।

बसपा सुप्रीमो ने आजमगढ़ वाले मसले पर कहा कि हाल ही में आजमगढ़ में दलित बेटी के साथ हुये उत्पीड़न के मामले में कार्रवाई को लेकर यू.पी के मुख्यमंत्री देर आये  पर दुरस्त आये, यह अच्छी बात है। लेकिन बहन-बेटियों के मामले में कार्रवाई आगे भी तुरन्त व समय से होनी चाहिये तो यह बेहतर होगा।

जांच की मांग की थी 
गौरतलब है कि पिछले दिनों उत्तरप्रदेश (Uttarpradesh) में दलितों के साथ हुए उत्पीड़न पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने नाराजगी व्यक्त की थी। उन्होंने सीएम योगी आदित्यनाथ से तुरंत कार्रवाई करने को कहा था। उन्होंने योगी सरकार को सुझाव दिया था कि जल्द कड़ा से कड़ा कार्रवाई होनी चाहिये।

असली अनामिका शुक्ला को मिली नौकरी, इनके नाम पर कर रहे है थे 2 दर्जन से अधिक लोग नौकरी
 

जौनपुर और आजमगढ़ में बनाया गया निशाना

दरअसल राज्य के  जौनपुर और आजमगढ़ में दलित बच्चियों के साथ छेड़खानी का मामला सामने आया है। जिस पर मायावती प्रतिक्रिया दे रही थी। उन्होंने कहा कि सीएम को इस पर ठोस कदम उठाना चाहिये। उन्होंने कहा कि दोषी किसी भी धर्म का क्यों न हो महिलाओं और बहु,बेटियों के सम्मान के साथ खिलवाड़ करने वालों पर सरकार को सख्ती दिखानी चाहिये। 

IMA में आज सोशल डिस्टेंसिंग के साथ POP, सेना में शामिल होंगे 333 युवा अधिकारी

लोगों में कानून का भय जरुरी

मायावती ने इस घटना की तीखी शब्दों में निंदा की है। उन्होंने कहा कि अक्सर बड़े लोगों की भी भूमिका होती है ऐसी घटनाओं में लेकिन उसे दबाने की कोशिश करने के बजाए सलाखों के पीछे भेजा जाना चाहिये। लोगों में कानून का भय हर हाल में कायम होना चाहिये। हालांकि उन्होंने सीएम योगी आदित्यनाथ के तुरंत एक्शन लेने की सराहना की है। इसे स्वागत योग्य बताया है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

.

comments

.
.
.
.
.