जानें, कौन है वो नौजवान जो इन दिनों मायावती के साथ साए की तरह है मौजूद

  • Updated on 1/17/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।   उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन की घोषणा के बाद से ही लगातार सबकी निगाहें अखिलेश और मायावती के फैसलों पर टिकी है कि वो आगे क्या करने वालें है कैसे करने वालें है। जिस दिन इस गठबंधन की घोषणा की गई उस दिन मायावती के साथ एक नौजवान देखा गया। तब ही नहीं जब मायावती से मिलने के लिए अखिलेश पहुंचे थे तब भी उस लड़के को देखा गया था। जब तेजस्वी मायावती से मिले तब वो नौजवान मौजूद था। इसके बाद से ही सवाल आने लगा कि आखिर ये लड़का है कौन। 

सपा-सपा गठबंधन के सामने हैं कई मुश्किलें, कहीं दूर ना हो जाए OBC वोट बैंक

दरअसल इस नौजवान के नाम है आकाश आनंद। मायावती के साथ इन दिनों ज्यादातर तस्वीरों में वहीं नजर आ रहे है। 

कौन है आकाश? 

आकाश मायावती के भाई आनंद के बेटे हैं। कहा जा रहा है कि इस वक्त आकाश मायावती के साथ इसलिए है ताकि वो राजनीति की बारीकियां सिख रहे हैं। जानकारों का कहना है कि जिस तरह से मायावती आकाश को आपने साथ हर जगह लेकर जा रही है उससे संदेह नहीं होना चाहिए कि वो जल्द ही अपने भतीजे को राजनीति में उतारने वाली है। बता दें कि उन्होंने लंदन से मैनेजमेंट में पढ़ाई की है।

RLD के सामने झुक कर राष्ट्रीय छवि चमकाने के साथ जाट वोट बैंक को लुभाने की जुगत में अखिलेश!

आकाश के बारे में बहुजन समाज पार्टी के नेता फिलहाल कुछ नहीं बता रहे हैं लेकिन खबरों के मुताबिक फिलहाल मायावती आकाश को बसपा में युवा नेता के तौर पर स्थापित करने की कोशिश में लगी है। साथ ही वो आकाश को पार्टी की अहम जिम्मेदारियां देने की भी तैयारी कर रही है। 

बसपा में कोई युवा फ्रंटल संगठन नहीं है इसके बाद भी पार्टी में और चुनावों में युवा की भागीदारी बढ़-चढ़कर रहती है। जानकारों के मुताबिक, बीएसपी में युवा संगठन की जरुरत सभी नेता महसूस करते हैं लेकिन इस बारे में कोई कुछ बोलता नहीं है। 

पहली बार कब सामने आए थे आकाश? 

सबसे पहले सहारनपुर में शब्बीरपुर हिंसा के दौरान सामने आए थे। जब उस वक्त मायावती शब्बीरपुर आई थी तो आकाश उनके साथ था। तब तक लोग उनके बारे में नहीं जानते थे। वहीं  पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का कहना है कि पार्टी प्रेजिडेंट की कुर्सी किसी भी परिवार के सदस्य को नहीं मिलेगी। 2017 में परिवारवाद के आरोपों क बाद आनंद सिंह को भी पार्टी उपाध्यक्ष के पद से हटा दिया गया था। 

2019 चुनाव में 'मोदी बनाम ऑल' की लड़ाई, कितना झूठ-कितना सच?

फिलहाल परिवार का बिजनेस संभाल रहे है आकाश 

खबरों के मुताबिक आकाश की रीजनीति में दिलचस्पी नहीं है। फिलहाल वो अपने पिता के साथ बिजनेस संभाल रहे है। वह 10 जनवरी को लखनऊ आए थे और 15 जनवरी तक वहां रहे थे क्योंकि मायावती का जन्मदिन था। रिक आयोजन था। इससे पहले आखिरी बार लखनऊ में उन्हें शायद पिछले साल अप्रैल में देखा गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.