Friday, May 14, 2021
-->
Mayawati said disharmony spread in society under ModiYogi rule ALBSNT

मायावती ने कहा- मोदी-योगी के राज में समाज में फैला वैमनस्यता

  • Updated on 1/1/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उत्तरप्रदेश की पूर्व सीएम और बसपा सुप्रीमो मायावती ने देशवासियों को शुभकामनाएं देते हुए केंद्र की मोदी सरकार और योगी पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने अपने संदेश में कहा कि देश और प्रदेश जिस दौर से गुजर रहा उसमें लोगों को धर्मांतरण कानून और कृषि बिल के माध्यम से बांटने की कोशिश की जा रही है। जिसकी जितनी निंदा की जाए वो उतना कम है। 

कृषि कानूनों पर योगेंद्र यादव बोले- अभी तो पूंछ निकली है, हाथी निकलना अभी बाकी है

मायावती ने उत्तरप्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि लव जिहाद को लागू करके राजनीतिक एजेंडे पर बीजेपी आगे बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि योगी सरकार की नीति और नियत दोनों बस समाज को बांटने की है। जो आने वाले दिनों में प्रदेश के लिये घातक साबित हो सकती है। वहीं उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी के नए कृषि कानून को काला कानून बताते हुए खारिज कर दिया है। मायावती ने कहा कि मोदी सरकार के नागरिकता कानून और तीन नये कृषि क़ानून से देश हित से ज्यादा उलझाने की बू आती है। 

योगी सरकार ने कहा- गरीबों के आवास की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा 'लाइट हाउस प्रोजेक्ट'

मायावती ने कहा कि मौजूदा शासन के दौरान देश और उत्तरप्रदेश में आमजनों के बीच अविश्वास का माहौल बनाने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने दावा किया कि जिस तरह यूपीए 2 जनता के बीच अपनी लोकप्रियता खो दी,ठीक उसी राह पर मोदी सरकार भी चल पड़ी है। मायावती ने इस बात पर चिंता व्यक्त की बात-बात पर राष्ट्रीय सुरक्षा और देशद्रोह कानूनों का घोर अनुचित और द्वेषपूर्ण प्रयोग करके समाज में जहर फैलाने की कोशिश की जा रही है।

TMC के स्थापना दिवस पर बोलीं CM ममता- बंगाल में मां-माटी-मानुष को बढ़ाएंगे आगे

मायावती ने योगी आदित्यनाथ को चेतावनी देते हुए कहा कि अहंकार मत पालें,जनता अगले चुनाव में सब हिसाब बराबर कर देगी। मायावती ने अपने संदेश में योगी सरकार को सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय के राह पर चलने की सलाह दी है। ताकि समाज में सामंजस्य का वातावरण कायम रहें। मायावती ने कहा कि कोरोना काल में प्रदेश सरकार की सारी पोल खोल दी है। जनता सरकार से नाराज हो गई है।

           

ये भी पढ़ें-

comments

.
.
.
.
.