Wednesday, Jan 19, 2022
-->
mayawati says people expect justice from lakhimpur case hearing in supreme court rkdsnt

सुप्रीम कोर्ट में लखीमपुर कांड की सुनवाई से लोगों को न्याय की उम्मीद : मायावती

  • Updated on 10/7/2021


नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने बृहस्पतिवार को कहा कि लखीमपुर खीरी मामले की सुनवाई उच्चतम न्यायालय में शुरू होने से लोगों में राहत व समुचित न्याय की उम्मीद जगी है। मायावती ने ट्वीट किया,‘‘लखीमपुर खीरी जघन्य कांड, जिसमें चार आन्दोलित किसानों व पत्रकार सहित आठ लोगों की मौत हुई है, के संबंध में माननीय उच्चतम न्यायालय द्वारा आज प्रारंभ की गई सुनवाई से लोगों को राहत व समुचित न्याय की उम्मीद जगी, क्योंकि इस मामले में भी भाजपा सरकार का रवैया ज्यादातर पक्षपाती ही लगता है।‘‘ 

लखीमपुर कांड : गृह राज्य मंत्री के बेटे आशीष को पूछताछ के लिए बुलाया गया

उन्होंने कहा, हालांकि बसपा का प्रतिनिधिमण्डल सरकारी अनुमति के बाद पार्टी महासचिव व राज्यसभा सदस्य सतीश चन्द्र मिश्रा के नेतृत्व में पीड़ित परिवारों से आज मिल रहा है, किन्तु इस काण्ड में केन्द्रीय मंत्री व कुछ अन्य प्रभावशाली लोगों के शामिल होने के कारण लोगों का आक्रोश भी थम नहीं पा रहा है। 

NCP का आरोप- क्रूज पोत पर छापेमारी ‘फर्जी’ थी कोई ड्रग्स नहीं मिला, NCB के रोल पर उठाए सवाल

गौरतलब है कि लखीमपुर खीरी जिले के तिकोनिया क्षेत्र में रविवार को उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य द्वारा केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के पैतृक गांव के दौरे के विरोध को लेकर भड़की ङ्क्षहसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी। इस मामले में मिश्रा के बेटे आशीष समेत कई लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। 

लखीमपुर कांड की जांच के लिए जांच आयोग गठित, प्रियंका ने की सेवारत जज से जांच कराने की मांग

इसकी जांच के लिये उत्तर प्रदेश सरकार ने आज एक सदस्यीय न्यायिक आयोग का गठन किया है जिसकी कमान इलाहाबाद उच्च न्यायालय के (सेवानिवृत्त) न्यायाधीश प्रदीप कुमार श्रीवास्तव को सौंपी गयी है। 

क्रूज ड्रग्स मामले में सोशल मीडिया पर ट्रोल हुए BJP के भानुशाली, NCP को दी चुनौती

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.