Friday, Jul 01, 2022
-->
MCD bulldozer could not run on Jamia Nagar Kalindi Kunj Shaheen Bagh today KMBSNT

दिल्ली: शाहीनबाग में आज नहीं चल सका MCD का बुल्डोजर, जानें क्या है कारण

  • Updated on 5/5/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राजधानी दिल्ली में नगर निगम ने अवैध अतिक्रमण हटाने का अभियान शुरू किया है। इसी क्रम में आज शाहीनबाग के जामिया नगर और कालिंदी कुंज में अतिक्रमण के खिलाफ बुल्डोजर चलाया जाना था, लेकिन आज यहां कार्रवाई को रोकना पड़ा। नगर निगम का बुल्डोजर आज शाहीनबाग में नहीं चल सका।

अतिक्रमण विरोधी अभियान पर एसडीएमसी केंद्रीय क्षेत्र स्थायी समिति के अध्यक्ष राजपाल ने बताया कि  हमने अपने कार्यक्रम और हमारे अधिकारियों के बारे में पुलिस को पहले ही सूचित कर दिया है, बुलडोजर भी वहां (शाहीन बाग क्षेत्र) पहुंच गया है, लेकिन पर्याप्त बल की अनुपलब्धता के कारण, हमने आज का कार्यक्रम स्थगित कर दिया। 

स्कूल में हैवानियतः कक्षा में घुसकर बच्चियों के कपड़े उतारे, पेशाब किया

करणी सिंह शूटिंग रेंज के पास से हटाया अतिक्रमण
गौरतलब है कि बुधवार को करीब 11.30 एमबी रोड स्थित करणी सिंह शूटिंग रेंज के पास रोड के फुटपाथ पर कब्जा कर बैठे दुकानदारों को हटाने के लिए निगम की टीम पहुंची। अधिक पुलिस बल को देखते हुए ही दुकानदारों ने कार्रवाई का विरोध करना शुरू कर दिया।

दुकानदारों का कहना था कि उनके टाउन वेंडिंग कमिटी ने उन्हें बेहतर रोजगार के लिए जगह उपलब्ध कराने के लिए जो सर्वे किया है, उसमें उनका नाम है और उनके पास इसकी पर्ची भी है। ऐसे में उन्हें कोई यहां से हटा नहीं सकता। लेकिन, मौके पर मौजूद निगम के अधिकारियों और मध्य जोन के चेयरमैन राजपाल सिंह ने उनकी एक नहीं सुनी। एक के बाद एक लगातार 13 दुकानों पर कार्रवाई की गई।

जम्मू कश्मीर: सांबा में LOC के पास मिली संदिग्ध सुरंग, अमरनाथ यात्रा बाधित करने की साजिश नाकाम

अतिक्रमण के कारण होती थी परेशानी- राजपाल सिंह
राजपाल सिंह ने बताया कि करणी सिंह शूटिंग रेंज रोड पर दुकानदारों ने इस कदर अतिक्रमण किया है कि वहां से कोई बस, स्कूल वैन या गाड़ी असानी से नहीं निकल सकती। बुधवार को एमबी रोड से अतिक्रमण हटाने की शुरुआत की गई है, आगे शाहीन बाग, ओखला, खड्डा कॉलोनी, जामिया नगर सभी जगहों पर अतिक्रमण के खिलाफ बुलडोजर चलेगा। उनका कहना है कि 13 मई तक का अतिक्रमण हटाने का प्लान तैयार किया गया है। 

comments

.
.
.
.
.