Friday, Jul 01, 2022
-->
mcd bulldozers in shaheenbagh, protesters detained kmbsnt

शाहीनबाग में चला MCD का बुलडोजर, हिरासत में लिए गए प्रदर्शनकारी

  • Updated on 5/9/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। शाहीन बाग में अवैध अतिक्रमण के खिलाफ दिल्ली नगर निगम का कार्रवाई शुरू हो गई है। अतिक्रमणकारियों के विोरोध- प्रदर्शन को देखते हुए इलाके में भारी संख्या में सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं। निगम की कार्रवाई के दौरान प्रदर्शन कर रहे कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है।    

इससे पहले, दिल्ली पुलिस ने नगर निगम के अतिक्रमण विरोधी अभियान के लिए शाहीन बाग में सुरक्षा मुहैया कराने को तैयार हो गई है। आज शाहीनबाग से अवैध अतिक्रमण को बुलडोजर की सहायता से ध्वस्त किया जाएगा। ऐसे में किसी भी प्रकार की हिंसा न हो और कानून व्यवस्था के दायरे में कार्रवाई पूरी हो इसके लिए दिल्ली पुलिस मौके पर मौजूद रहेगी। इससे पहले गुरुवार को पुलिस ने पर्याप्त पुलिसबल न होने के कारण सिक्योरिटी देने से मना किया था। 

 गुरुवार को अतिक्रमण विरोधी अभियान पर एसडीएमसी केंद्रीय क्षेत्र स्थायी समिति के अध्यक्ष राजपाल ने बताया कि  हमने अपने कार्यक्रम और हमारे अधिकारियों के बारे में पुलिस को पहले ही सूचित कर दिया है, बुलडोजर भी वहां (शाहीन बाग क्षेत्र) पहुंच गया है, लेकिन पर्याप्त बल की अनुपलब्धता के कारण, हमने आज का कार्यक्रम स्थगित कर दिया। 

करणी सिंह शूटिंग रेंज के पास से हटाया अतिक्रमण
गौरतलब है कि बीते सप्ताह बुधवार को करीब 11.30 एमबी रोड स्थित करणी सिंह शूटिंग रेंज के पास रोड के फुटपाथ पर कब्जा कर बैठे दुकानदारों को हटाने के लिए निगम की टीम पहुंची। अधिक पुलिस बल को देखते हुए ही दुकानदारों ने कार्रवाई का विरोध करना शुरू कर दिया।

दुकानदारों का कहना था कि उनके टाउन वेंडिंग कमिटी ने उन्हें बेहतर रोजगार के लिए जगह उपलब्ध कराने के लिए जो सर्वे किया है, उसमें उनका नाम है और उनके पास इसकी पर्ची भी है। ऐसे में उन्हें कोई यहां से हटा नहीं सकता। लेकिन, मौके पर मौजूद निगम के अधिकारियों और मध्य जोन के चेयरमैन राजपाल सिंह ने उनकी एक नहीं सुनी। एक के बाद एक लगातार 13 दुकानों पर कार्रवाई की गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.