Sunday, Feb 05, 2023
-->
mcd election: parties reaching voters through social media

MCD Election: सोशल मीडिया के जरिये वोटरों तक पहुंच रही पार्टियां

  • Updated on 11/19/2022

नई दिल्ली /टीम डिजिटल। गुजरात में अगले महीने होने वाले विधानसभा चुनाव के प्रचार और मतदाताओं को आकर्षित करने के लिए राजनीतिक दलों के अपने कार्यकर्ताओं और स्वयंसेवक सोशल मीडिया मंचों का भरपूर इस्तेमाल कर रहे हैं।

गुजरात की सत्तारूढ़ भाजपा के सोशल मीडिया मंच फेसबुक, यूट्यूब, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर बड़ी संख्या में ‘फॉलोअर्स’ हैं और वह इन मंचों पर जोर-शोर से प्रचार कर रही हैं, जबकि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) जमीनी स्तर पर मतदाताओं तक पहुंचने के लिए बड़े पैमाने पर व्हाट्सएप का इस्तेमाल कर रही है। 

भाजपा का सोशल मीडिया अभियान पिछले दो दशकों में गुजरात में पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार की उपलब्धियों को रेखांकित करने पर केंद्रित है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2001 से 2014 तक गुजरात के मुख्यमंत्री थे। भाजपा ने गुजराती गौरव के भावनात्मक मुद्दे पर जोर देते हुए हाल ही में ‘आ गुजरात में बनाव्यू छे’ (यह गुजरात मैंने बनाया है) अभियान शुरू किया। 

कांग्रेस के एक पदाधिकरी बताया कि उनकी पार्टी उस दौर की यादें ताजा करने की कोशिश कर रही है जब राज्य में उसका शासन था, राज्य के विकास के लिए उसकी सरकारों ने कितना कुछ योगदान दिया और कैसे भाजपा ने अपने 27 वर्षों के शासन में कुछ नहीं किया।  ‘आप’ के एक पदाधिकारी ने बताया कि पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल द्वारा राज्य में अपने चुनाव प्रचार के दौरान किए ‘वादों’ पर जोर दिया जा रहा है और मतदाताओं से जुडऩे के लिए व्हाट्सएप का भरपूर इस्तेमाल किया जा रहा है। 

60 हजार स्वयंसेवक संभाल रहे मोर्चा 

भाजपा के सोशल मीडिया सह-प्रभारी मनन दानी ने कहा, ‘हमने अभी तक पांच अभियान चलाए हैं और हम आने वाले दिनों में कुछ और अभियान भी चलाएंगे।’ भाजपा की गुजरात इकाई मतदाताओं तक पहुंचने के लिए 15 से अधिक एप का इस्तेमाल कर रही है। उन्होंने बताया कि भाजपा के पास 20 हजार से अधिक कार्यकर्ताओं और 60 हजार से अधिक स्वयंसेवकों का एक दल है, जो उनके सोशल मीडिया अभियान संभाल रहा है।

उन्होंने कहा कि पार्टी ने 2022 गुजरात विधानसभा चुनाव के प्रचार अभियान की शुरुआत करीब छह महीने पहले स्थानीय भाषा में ‘20 वरस नो विश्वास, 20 वरस नो विकास’ (20 साल का विश्वास और 20 साल का विकास) ‘टैगलाइन’ जारी करने के साथ की थी। दानी ने बताया कि सत्तारूढ़ पार्टी ने ‘मोदी जी के 20 स्वर्ण वर्ष’, ‘वंदे भारत’, ‘ मैंने यह गुजरात बनाया है’, ‘भाजपा का मतलब विश्वास’ जैसे अभियान चलाए हैं। 

कांग्रेस : 50 हजार ग्रुप के जरिये लोगों तक पहुंच

कांग्रेस के सोशल मीडिया विभाग के अध्यक्ष केयूर शाह ने बताया कि पार्टी ने लक्षित अभियान चलाने के लिए एक रणनीति तैयार की है। उन्होंने कहा कि पार्टी अपने अभियान को चलाने और जमीनी स्तर पर मतदाताओं को आकर्षित करने के लिए व्हाट्सएप पर काफी अधिक निर्भर है। शाह ने कहा, ‘ हमने बूथ और गांव स्तर पर करीब 50,000 व्हाट्सएप ग्रुप बनाए हैं।

आप: 20 हजार मीडिया योद्धा संभाल रहे मोर्चा

‘आप’ के गुजरात में सोशल मीडिया प्रभारी डॉ. सफीन हसन ने बताया कि पार्टी का सोशल मीडिया अभियान कॉलेज के छात्रों और स्वयंसेवकों पर काफी अधिक निर्भर है। उन्होंने कहा कि पार्टी प्रचार के लिए सबसे अधिक व्हाट्सएप का ही इस्तेमाल कर रही है।

हसन ने बताया कि पार्टी के पास अपने सोशल मीडिया अभियानों को देखने के लिए 25 युवाओं की एक टीम है। इसके अलावा, ‘आप’ के पास करीब 20 हजार ‘सोशल मीडिया योद्धा’ हैं, जो जरूरी नहीं कि पूर्णकालिक पार्टी कार्यकर्ता हों, लेकिन विभिन्न मंचों पर अभियान चलाने व पार्टी के संदेशों का प्रसार करने में मदद कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.