Wednesday, Mar 03, 2021
-->
MCD Mayor Protest outside CM Kejriwal Residence Delhi High Court resentment KMBSNT

CM केजरीवाल के घर के बाहर BJP नेताओं के विरोध प्रदर्शन से दिल्ली हाईकोर्ट नाराज

  • Updated on 12/17/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। निगम फंड को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejirwal) के घर के बाहर तीनों नगर निगमों (MCD) के मेयरों द्वारा किए जा रहे धरना प्रदर्शन पर दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने नाराजगी जताई है। कोर्ट ने दिल्ली पुलिस (Delhi Police) से कहा है कि संविधान के तहत किसी को भी विरोध का अधिकार है, लेकिन यह गलत मिसाल नहीं होनी चाहिए कि कोई भी आवासीय क्षेत्रों में विरोध प्रदर्शन कर सकता है। 

जानकारी के लिए आपको बता दें कि नगर निगम की फंडिंग रोकने के खिलाफ तीनों निगमों के मेयर सीएम आवास के बाहर पिछले कई दिन से धरने पर बैठे हैं। यहां के स्थानीय लोगों को इस धरने के कारण आवाजही में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। क्योंकि दिल्ली पुलिस की अनुमति के बाद ये धरना हो रहा है इसलिए लोगों ने दिल्ली हाईकोर्ट से पुलिस के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी।

कर्मचारी यूनियन को धरने के बदले वेतन देने को ब्लैकमेल कर रहे BJP नेता: AAP

सीएम केजरीवाल के घर के बाहर की गई थी तोड़-फोड़
कुछ दिन पहले  मुख्यमंत्री कार्यालय ने इस बात की जानकारी दी  थी कि धरने पर बैठे बीजेपी नेताओं ने सीएम के घर के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरों को तोड़ा है। वहीं बीजेपी का आरोप था कि सीएम केजरीवाल के घर के बाहर धरने पर बैठी महिला पार्षदों पर नजर रखने के लिए ये कैमरे लगाए जा रहे हैं, ये उनकी निजता का हनन है।

दिल्ली बीजेपी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर लिखा गया है कि AAP इस स्तर की घटिया राजनीति पर उतर आई है कि अब वो वहां बैठीं भाजपा की निगम पार्षदा पर नज़र रखने के लिए नए CCTV लगवा दिए जबकि CM हाउस के बाहर पहले से ही बहुत कैमरें हैं। ये किसी भी महिला की निजता पर हमला है। AAP का महिला विरोधी चेहरा एक बार फिर उजागर हो चुका है। बेहद शर्मनाक।

BJP की महिला नेता CM केजरीवाल के खिलाफ पहुंची राष्ट्रीय महिला आयोग, जानें क्या है मामला

ठंड के मौसम में धरने पर बैठने को मजबूर मेयर
वहीें दूसरी ओर धरने पर बैठे निगम के मेयर और नेताओं का कहना है कि सरकार से कई बार अनुरोध करने के बाद भी निगम का बकाया पैसा नहीं दिया गया, जिसके बाद मजबूरन उन्हें यहां आकर ठंड के मौसम में धरने पर बैठना पड़ा। मेयरों का कहना है कि इतने दिन से सीएम आवास के बाहर बैठने के बाद भी अब तक उन्हें मिलने का समय नहीं दिया गया है।

ये भी पढ़ें-

comments

.
.
.
.
.