Tuesday, Sep 25, 2018

मक्का मस्जिद विस्फोट केस: बहरा और अंधा तोता बन गया है NIA

  • Updated on 4/16/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मक्का मस्जिद विस्फोट मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की विशेष कोर्ट से स्वामी असीमानंद समेत सभी 5 आरोपियों के बरी हो जाने को लेकर देश की सियासत गर्मा गई है। कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों ने एनआईए की कार्यप्रणाली पर ही सवाल उठाए हैं। 

मक्का मस्जिद विस्फोट मामले में NIA के विशेष जज ने दिया इस्तीफा

इसी कड़ी में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने भी सख्त बयान दिया है। ओवैसी ने कोर्ट के फैसले के बाद कहा कि एनआईए बहरा और अंधा तोता बन गया है और सियासी हस्तक्षेप का शिकार हो गया है। 

मक्का मस्जिद विस्फोट केस : गुलाम नबी आजाद बोले- NIA से खत्म हो रहा है भरोसा

रितिक रोशन ने दिल खोल कर की कॉमन वेल्थ गेम्स के खिलाड़ियों की तारीफ

ओवैसी ने आगे कहा कि इस मामले में न्याय नहीं हुआ है। एनआईए और केंद्र की मोदी सरकार ने आरोपियों को मिली जमानत के खिलाफ भी कोई अपील नहीं की। यह पूरी तरह से तरफा जांच थी। इससे आतंक के खिलाफ देश की लड़ाई ही कमजोर हुई है।

कर्नाटक चुनाव के लिए भाजपा ने जारी की दूसरी लिस्ट, जानें कौन कहां से है मैदान में

AIMIM चीफ ने साफ तौर पर कहा कि एनआईए की जांच इस तरह की गई, जिससे कोर्ट सुनवाई में सारे आरोपी ही छूट गए। हमें कोर्ट से कोई शिकायत नहीं है। इस मामले में एनआईए को ही सबूत पेश करने थे। यह कोई छोटा मामला नहीं था।

कठुआ गैंगरेप केस: SC का पीड़िता के परिवार और वकील को सुरक्षा देने का निर्देश 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.