Monday, Jan 21, 2019

‘जीवन संवारने वाले’ पुलिसकर्मी से मिलने न्यूजीलैंड से भारत आईं बहनें

  • Updated on 1/7/2019

गोद लिए गए बच्चे अक्सर बड़े होने के बाद जन्म देने वाले माता-पिता का पता लगाने की सोचते हैं, लेकिन न्यूजीलैंड से दो बहनें एक पुलिसकर्मी से मिलने पुणे आई हैं। यही पुलिसकर्मी उन्हें जन्म देने वाले माता-पिता द्वारा सड़क के किनारे छोड़े जाने के बाद अपने साथ ले गया था। 

सीमा जीनत (24) और रीमा साजिया (23) नामक बहनें मंगलवार को अपने दत्तक अभिभावक के साथ डेक्कन जिमखाना पुलिस थाने पहुंचीं। वे न केवल उस पुलिसकर्मी से मिलना चाहती थीं, जिसने उन्हें सड़क किनारे से उठाया, बल्कि उस पुलिस स्टेशन को भी देखना चाहती थीं, जहां उन्हें लाया गया था। 

डेक्कन जिमखाना पुलिस थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक भास्कर जाधव ने बताया, ‘‘हमारे रिकार्ड के अनुसार 2007 में सहायक उपनिरीक्षक के पद से सेवानिवृत्त हुए सरजेराव कांबले ने 25 अप्रैल 1998 को दोनों बहनों को सड़क के किनारे लावारिस हालत में पाया। इनमें से एक तब 2 साल की और दूसरी 3 साल की थी।’’

उस वक्त कांस्टेबल कांबले ने उनके माता-पिता की काफी तलाश की लेकिन वह उन्हें नहीं खोज सका। दोनों लड़कियों को सोसाइटी आफ फ्रैंड्स द ससून अस्पताल (एस.ओ.एफ.ओ.एस.एच.) द्वारा संचालित शिशु देखभाल केन्द्र ‘श्रीवत्स’ को सौंप दिया गया। दोनों बहनें अनाथालय में रहीं, जहां से उन्हें वेलिंगटन, न्यूजीलैंड के युगल ने गोद ले लिया था। 

एस.ओ.एफ.ओ.एस.एच. की प्रशासन प्रभारी शर्मिला सैयद ने बताया, ‘‘दोनों बहनें और उनके दत्तक अभिभावक पहले भी दो बार श्रीवत्स आ चुके हैं, लेकिन उन्होंने नहीं बताया कि बचपन में दोनों बहनों को कैसे केन्द्र लाया गया था।’’ उन्होंने बताया, ‘‘इस वक्त पुणे आने से पहले उन्होंने विवरण बताने का अनुरोध किया और कांबले से मिलने की इच्छा व्यक्त की।’’ 

उन्होंने बताया कि सीमा अब शिक्षक है जबकि रीमा इंजीनियर है। दुर्भाग्य से वे न्यूजीलैंड जाने से पहले सेवानिवृत्त पुलिसकर्मी से नहीं मिल सकीं। जाधव ने बताया, ‘‘कांबले काफी पहले रिटायर्ड हो चुके हैं और अब 73 साल के हैं। हमने उनसे सम्पर्क करने का प्रयास किया और पता चला कि वे शहर से बाहर हैं। हम उनकी तलाश करने या उनका टैलीफोन नम्बर प्राप्त करने की कोशिश कर रहे हैं ताकि दोनों बहनें कम से कम उनसे फोन पर बात कर सकें।’’                                ---जी. शेल्के

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख (ब्लाग) में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इसमें सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इसमें दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार पंजाब केसरी समूह के नहीं हैं, तथा नवोदय टाइम्स (पंजाब केसरी समूह) उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.