Sunday, Jan 23, 2022
-->
mehbooba mufti pdp dharna delhi jantar mantar reminded people gandhi ambedkar rkdsnt

दिल्ली में धरने पर बैठीं महबूबा मुफ्ती ने गांधी-आंबेडकर को याद कर लोगों को चेताया

  • Updated on 12/6/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने सोमवार को दिल्ली के जंतर मंतर पर धरना दिया और मांग की कि केंद्र शासित प्रदेश में लोगों को कथित रूप से दबाना और बेगुनाह नागरिकों की हत्या फौरन बंद की जाए। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष ने कहा कि उन्होंने राष्ट्रीय राजधानी में धरना देने का फैसला इसलिए किया, क्योंकि उन्हें कभी भी कश्मीर में अपना विरोध दर्ज कराने की अनुमति नहीं दी गई। उन्होंने कहा कि वह जब भी विरोध प्रदर्शन करना चाहती थीं, तो या उन्हें घर में नकारबंद कर दिया जाता था या पुलिस उन्हें ले जाती थी। 

टाटा के खाते में गई एयर इंडिया पर भारतीय हवाईअड्डा प्राधिकरण के 2,350 करोड़ रुपये बकाया

 

जंतर मंतर पर धरने में पीडीपी के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया। उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में आरोप लगाया, 'कश्मीर एक ऐसी जेल बन गई है, जहां लोगों को अपनी राय रखने की इजाजत नहीं है। अगस्त 2019 से उनका (लोगों का) दमन किया जा रहा है और मुझे हैरानी है कि सरकार कुछ पेड (पैसा लेने वाले) मीडिया की मदद से घाटी में सब कुछ ठीक-ठाक दिखाने में मसरूफ है।’’ अगस्त 2019 में केंद्र सरकार ने संविधान के अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू कश्मीर को मिले विशेष दर्ज को खत्म कर दिया था और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेश में विभाजित कर दिया था। 

पंजाब चुनाव के ऐलान से पहले अमरिंदर सिंह हुए सक्रिय, चंडीगढ़ में खोला अपनी पार्टी का दफ्तर

पूर्व मुख्यमंत्री ने इस इल्कााम से इनकार किया कि वह पुलिस की हर कार्रवाई पर सवाल उठाती हैं। उन्होंने कहा, ' जब भी मुठभेड़ होती है और कोई आतंकवादी मारा जाता है, तो कोई सवाल नहीं उठाता है, लेकिन जब एक आम नागरिक मारा जाता है, तो लोग सड़कों पर आते हैं और सवाल करना शुरू करते हैं।’’ उनके हाथ में तख्ती थी, जिसमें लिखा था, ' कश्मीर दर्द में है।’’ 

नगालैंड में सुरक्षाबलों की गोलीबारी में 14 नागरिकों की मौत, विपक्ष ने साधा गृह मंत्रालय पर निशाना

मुफ्ती ने कहा, 'आपने देखा कि नगालैंड में क्या हुआ है, जहां 13 आम नागरिकों को मार गिराया गया। फौरन प्राथमिकी दर्ज कर ली गई। कश्मीर में भी ऐसा ही क्यों नहीं होता है? हालांकि मुझे इस बात की ज्यादा उम्मीद नहीं है कि इन जांचों से कुछ निकलेगा, लेकिन फिर भी सरकार कार्रवाई करती नजर आ रही है।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि जम्मू-कश्मीर में भ्रष्टाचार चरम पर है, स्थानीय निवासियों को नौकरियों से वंचित किया जा रहा है और बेगुनाहों का खून सड़कों पर बहाया जा रहा है। 

वायु प्रदूषण: Delhi-NCR में निर्माण पर रोक के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचा बिल्डरों का संगठन

मुफ्ती ने कहा ने कहा, 'मैं यहां इस देश के लोगों को यह कहने आई हूं कि अगर वे अब भी नहीं जागते हैं तो वह दिन दूर नहीं जब (महात्मा) गांधी और (बीआर) आंबेडकर का देश (नाथूराम) गोडसे के देश में बदल जाएगा और उसके बाद हम सब बेबस हो जाएंगे।’’ कई फोटो पत्रकारों ने मुफ्ती से बेहतर तस्वीर के लिए अपना मास्क हटाने का आग्रह किया, लेकिन उन्होंने मुस्कुराकर कर जवाब दिया, 'अगर मैं मास्क हटा दूं तो मेरे खिलाफ फौरन यूएपीए के तहत मामला दर्ज किया जा सकता है।'

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.