Sunday, Dec 04, 2022
-->
mehbooba was upset by singing the bhajan of mahatma gandhi, made this allegation

महात्मा गांधी का भजन गाने से महबूबा हुई खफा, लगाया ये आरोप

  • Updated on 9/20/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की जम्मू कश्मीर इकाई के अध्यक्ष रवींद्र रैना ने मंगलवार को आरोप लगाया कि पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती निहित स्वार्थ के लिए स्कूलों में बच्चों के ‘रघुपति राघव राजाराम’ गाने का विरोध कर रही हैं और उनके मन में ‘जहर भर रही हैं।’

पूर्व मुख्यमंत्री ने सोमवार को ट्विटर पर एक वीडियो डाला था, जिसमें स्कूल के शिक्षक छात्रों को महात्मा गांधी का प्रसिद्ध भजन ‘रघुपति राघव राजाराम’ गाने को कह रहे हैं। महबूबा मुफ्ती ने इसे सरकार का वास्तविक ‘हिंदुत्व का एजेंडा’ करार दिया।

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष ने ट्वीट में कहा था, ‘धार्मिक विद्वानों को जेल में डालना, जामा मस्जिद बंद करना और यहां स्कूल के बच्चों को हिंदू भजन गाने का निर्देश देना कश्मीर में भारत सरकार के वास्तविक हिंदुत्व के एजेंडा को उजागर करता है।’

रैना ने महबूबा के इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उन्हें ‘बाल मन में जहर पैदा करके’ इस तरह की राजनीति करनी बंद कर देनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘महात्मा गांधी ने स्वतंत्रता संघर्ष के दौरान यह भजन गाकर पूरे देश को एकजुट किया था। स्कूली बच्चे अपनी सुबह की प्रार्थना सभा में ‘लब पे आती है दुआ बनके तमन्ना मेरी’ भी गाते हैं और किसी को कोई आपत्ति नहीं है।’

भाजपा द्वारा यहां ‘सेवा पखवाड़ा’ के तहत आयोजित मुफ्त चिकित्सा शिविर से इतर संवाददाताओं से बातचीत में उन्होंने कहा कि कुछ लोगों ने अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए जानबूझकर इस तरह के विवाद पैदा किये। उन्होंने कहा, ‘महबूबा को इस तरह की राजनीति करनी बंद करनी चाहिए। वह कश्मीर में अपना आधार खो चुकी हैं और घाटी के लोगों ने उन्हें नकार दिया है। अब वह इस तरह का विवाद खड़ा कर रही हैं।’

रैना ने कहा, ‘यह देश हम सभी का है, सभी धर्म के लोग- हिंदू, मुस्लिम, सिख और ईसाई यहां रहते हैं। महबूबा को अल्लामा इकबाल का ‘मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर करना’ पढ़ते रहना चाहिए।’

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.